S M L

राजस्थान: स्वाइन फ्लू से अब तक 82 की मौत, सामने आए 67 नए मामले

जोधपुर में 358, उदयपुर में 131, बाड़मेर में 123 और बीकानेर में 116 स्वाइन फ्लू के पॉजिटिव केस एक महीने में सामने आए हैं

Updated On: Feb 02, 2019 10:20 AM IST

FP Staff

0
राजस्थान: स्वाइन फ्लू से अब तक 82 की मौत, सामने आए 67 नए मामले

राजस्थान में स्वाइन फ्लू से हो रही मौतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. सर्दी बढ़ने के चलते स्वाइन फ्लू का असर और अधिक बढ़ता नजर आ रहा है. इससे अब तक राज्य भर में 82 मौतें हो चुकी हैं. हर दिन स्वाइन फ्लू पॉजिटिव मरीजों और मृतकों की संख्या बढ़ती ही जा रही है.

न्यूज़18 की खबर के अनुसार पूरे राज्य में स्वाइन फ्लू के 2190 पॉजिटिव केस अब तक सामने आए हैं. जयपुर में सबसे ज्यादा 863 लोग स्वाइन फ्लू से ग्रस्त हैं. वहीं जोधपुर में स्वाइन फ्लू से सर्वाधिक 25 मौतें दर्ज की गई हैं. बीकानेर में 7, चूरू और उदयपुर में 6-6 मौतें दर्ज हुई हैं. वहीं जोधपुर में 358, उदयपुर में 131, बाड़मेर में 123 और बीकानेर में 116 पॉजिटिव केस एक महीने में सामने आए हैं.

लोगों में स्वाइन फ्लू से बचाव के प्रति जागरूकता होना जरूरी है

खबर है कि चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा विभाग के अधिकारियों के साथ पश्चिमी राजस्थान के दौरे पर हैं. यहां भी स्वाइन फ्लू से जूझ रहे रोगी सामने आ रहे हैं. उन्होंने बाड़मेर जिला मुख्यालय पर चिकित्साधिकारियों की बैठक में सभी चिकित्सकों को प्राथमिकता से कार्य करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि चिकित्सा विभाग ने स्वाइन फ्लू से निपटने के लिए पुख्ता इंतजाम किए हैं जबकि लोगों में स्वाइन फ्लू से बचाव के प्रति जागरूकता होना जरूरी है. उन्होंने इसके लिए वृहद स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम चलाने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने स्वाइन फ्लू के उपचार के लिए कारगर व्यवस्थाएं लागू की है.

स्थानीय स्तर पर मरीजों को जांच की सुविधा मुहैया हो रही है

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि समस्त जिला मुख्यालयों पर स्वाइन फ्लू संबंधित जांच केंद्र खोले गए हैं. इससे स्थानीय स्तर पर मरीजों को जांच की सुविधा मुहैया हो रही है. उन्होंने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने क्षेत्र में स्वाइन फ्लू के प्रति सजग रहें एवं इसके लक्षण मिलते ही तत्काल समय पर उपचार सुनिश्चित करें. बता दें कि पिछले साल मानसून के तत्काल बाद राजधानी जयपुर में जीका वायरस ने अपना आतंक मचाया था. उससे निपटने के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को पूरी ताकत झोंक देनी पड़ी थी तब कहीं जाकर मामला काबू में आ पाया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi