S M L

सड़क पर नहीं, घर पर नमाज पढ़ें मुसलमान: राज ठाकरे

ठाकरे ने कहा, मैं मुस्लिमों से हमेशा पूछता हूं कि उन्हें अजान के लिए लाउडस्पीकर की क्या जरूरत है? वे इसका दिखावा क्यों करते हैं? अगर उन्हें नमाज ही पढ़नी है, तो घर पर पढ़ें न कि सड़कों पर

FP Staff Updated On: Jul 28, 2018 12:54 PM IST

0
सड़क पर नहीं, घर पर नमाज पढ़ें मुसलमान: राज ठाकरे

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) प्रमुख राज ठाकरे ने अजान के लिए लाउडस्पीकर के इस्तेमाल पर कड़ा एतराज जताया है और मुसलमानों को सलाह दी है कि उन्हें घर पर नमाज अदा करनी चाहिए ताकि किसी को कोई परेशानी न हो.

टाइम्स ऑफ इंडिया ने ठाकरे के हवाले से कहा, मैं मुस्लिमों से हमेशा पूछता हूं कि उन्हें अजान के लिए लाउडस्पीकर की क्या जरूरत है? वे इसका दिखावा क्यों करते हैं? अगर उन्हें नमाज ही पढ़नी है, तो घर पर पढ़ें न कि सड़कों पर.

समाचार चैनल आज तक के मुताबिक, ठाकरे ने यह भी कहा कि मैं कोई ज्योतिषी नहीं हूं लेकिन जो मैंने कहा है वह हुआ है. उन्होंने कहा कि मैंने पहले ही कहा था कि चुनाव से पहले बीजेपी वाले राम मंदिर का मुद्दा उठाएंगे. अब चार साल बाद इन्हें भगवान राम की याद आई है, राम मंदिर बनना चाहिए लेकिन चुनाव के बाद. जब बीजेपी सरकार में आई थी, तभी राम मंदिर बनना चाहिए था.

राज ठाकरे ने गुरु पूर्णिमा के दिन पुणे में अपने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें आर्थिक दशा के आधार पर जारी आरक्षण पर कोई हर्ज नहीं है. उन्होंने युवाओं से अपील की कि उन्हें आरक्षण का असल मर्म समझना चाहिए न कि उन नेताओं के झांसे में आना चाहिए जो वोट बैंक बढ़ाने के लिए जात-पात के नाम पर लोगों के बीच नफरत फैलाते हैं और उन्हें बांटते हैं.

राज ठाकरे ने अभी हाल में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर मराठा समुदाय के लिए नौकरियों में आरक्षण के मुद्दे पर लोगों को ‘गुमराह’ करने का आरोप लगाया.

ठाकरे ने पत्रकारों से कहा, ‘मुख्यमंत्री झूठ बोल रहे हैं. वे यह कहकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं कि बंबई हाई कोर्ट के मराठा आरक्षण को मंजूरी देने पर सरकार बैकलॉग में पड़े मराठा उम्मीदवारों को 72,000 पदों में से 16 प्रतिशत पद बांट देगी. वह आम लोगों को गुमराह कर रहे हैं.’

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi