S M L

यात्री सुविधा: दिवाली और छठ पर रेलवे के दावों में कितना दम?

रेलवे बोर्ड ने दिवाली और छठ पूजा के लिए बड़े-बड़े स्टेशनों पर अतिरिक्त स्टाफ की तैनाती की है. प्रमुख स्टेशनों को पूरी तरह से सीसीटीवी से कवर कर दिया गया है. कर्मचारियों की ड्यूटी भी तय कर दी गई है.

Updated On: Nov 06, 2018 09:17 PM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
यात्री सुविधा: दिवाली और छठ पर रेलवे के दावों में कितना दम?
Loading...

देश में इस समय त्योहारों का सीजन चल रहा है. ऐसे में भारतीय रेलवे फेस्टिव सीजन में यात्रियों की सुरक्षा और सुविधा का विशेष ख्याल रख रहा है. पिछले कुछ दिनों से दिवाली और छठ पूजा को देखते हुए ट्रेनों में भारी भीड़ उमड़ रही है. खासकर बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश जानेवाली अधिकांश ट्रेनों की स्लीपर और जनरल बोगियों में यात्रियों की क्षमता से कहीं गुना ज्यादा भीड़ दिखाई दे रही है. भारतीय रेलवे अनुमान लगा रहा है कि दिल्ली से दिवाली और छठ पूजा में शामिल होने के लिए लगभग 10 लाख लोग अपने-अपने घर को जाएंगे.

उत्तर रेलवे ने इतने यात्रियों की भीड़ को देखते हुए रेल प्रशासन ने पुख्ता इंतजाम कर रखा है. दिल्ली और मुंबई के कई रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों के ठहरने के लिए पंडाल लगाया गया है. इन पंडालों में यात्रियों के खाने-पीने से लेकर शौचालय और पीने का पानी जैसी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं. इन पंडालों में पूछताछ केंद्र, सहायता कक्ष, टिकट काउंटर्स की सुविधा के साथ-साथ यात्रियों के मनोरंजन के लिए भी बड़े-बड़े एलसीडी लगाए गए हैं. इन पंडालों में छठ और दिवाली के गीत विशेष तौर पर सुनाए जाते हैं.

railway

पूरी रेलवे महकमा कोशिश कर रहा है कि किसी भी यात्री को यात्रा के दौरान परेशानी का सामना नहीं करना पड़े. बता दें कि नवंबर महीने की पहली तारीख से ही भारतीय रेलवे ने देश के प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कर रखे हैं. दिल्ली और मुंबई जैसे बड़े रेलवे स्टेशनों पर रेलवे बोर्ड के कई अधिकारी खुद कैंप कर रहे हैं. पिछले ही दिन रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने खुद नई दिल्ली रेलवे स्टेशन का दौरा कर दिवाली और छठ पूजा के लिए किए गए इंतजाम का जायजा लिया था.

रेलवे बोर्ड ने दिवाली और छठ पूजा के लिए बड़े-बड़े स्टेशनों पर अतिरिक्त स्टाफ की तैनाती की है. प्रमुख स्टेशनों को पूरी तरह से सीसीटीवी से कवर कर दिया गया है. कर्मचारियों की ड्यूटी भी तय कर दी गई है. कुछ प्राइवेट कंपनी के लोगों को भी हायर किया गया है. फ़र्स्टपोस्ट हिंदी ने मंगलवार को दिल्ली के आनंद विहार रेलवे स्टेशन का दौरा कर वहां के इंताजाम का जायजा लिया.

बता दें कि हाल ही में आनंद विहार को स्वच्छता के लिए दिल्ली का सबसे स्वच्छ रेलवे स्टेशन का खिताब मिला था. आनंद विहार से अधिकांश ट्रेनें बिहार और उत्तर प्रदेश के लिए खुलती हैं. आनंद विहार से रोजाना हजारों यात्री बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के लिए यात्रा करते हैं. इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए इस बार दिवाली और छठ के लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं.

indian railway

भारतीय रेलवे ने यात्रियों की सुरक्षा के लिए और भीड़ को भगदड़ से बचाने के लिए भी विशेष इंतजाम कर रखे हैं. आरपीएएफ, जीआरपी, सीआरपीएफ के साथ-साथ आरपीएफ की स्पेशल फोर्स और स्थानीय पुलिस की भी मदद ली जा रही है.

दिल्ली के आनंद विहार रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 3 पर दो भाई मोनू साहू और चंचल फ़र्स्टपोस्ट हिंदी से बात करते हुए कहते हैं, हमलोगों को सहरसा जाना है. हमारे पास टिकट नहीं है. हमलोग विक्रमशीला एक्सप्रेस में किसी तरह चढ़ कर पटना तक जाना चाहते हैं लेकिन, समस्या यह है कि जनरल बोगी में इतनी भीड़ है कि हमलोग चढ़ नहीं पा रहे हैं. अब दोनों भाई प्लेटफॉर्म नंबर एक पर मुजफ्फरपुर जाने वाली सप्त क्रांति पकड़ने जा रहे हैं.’

ये परेशानी सिर्फ मोनू और चंचल की ही नहीं है. आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर बिहार जाने वाली लगभग हर ट्रेन में स्लीपर और जनरल बोगियों में काफी भीड़ देखने को मिल रही है. एसी बोगियों का हाल सामान्य दिनों जैसा ही दिखाई दे रहा है. स्लीपर और जनरल बोगियों में ज्यादा भीड़ होने का कारण है बिना टिकट यात्रा करने वालों लंबी फेहरिस्त है. अगर टिकट नहीं लेने के बारे में पूछा जाता है तो जवाब मिलता है कौन लाइन में लग कर टिकट कटाए? इससे बेहतर तो यही है कि जब ट्रेन में टीटी पूछताछ करेगा तो फाइन ही कटवा देंगे.

बता दें कि दिल्ली के आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर ही सिर्फ आरपीएएफ और जीआरपी के लगभग 600 जवानों की तैनाती की गई है. आरपीएफ के 26 निरीक्षकों की तैनाती की गई है. आनंद विहार में वर्तमान में जितने टीटी हैं उनके अलावा लगभग 150 अतिरिक्त टीटी को और लगाया गया है. ये सभी स्टाफ उत्तर रेलवे से बुलाए गए हैं.

indian railway

आनंद विहार रेलवे स्टेशन के आरपीएफ के कमांडेंट शशि कुमार कहते हैं, ‘देखिए, रेलवे ने आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर दिवाली और छठ पूजा पर घर जाने वाले यात्रियों के लिए विशेष इंतजाम किए हैं. हमने यहां पर 32 अतिरिक्त सीसीटीवी लगाए हैं. यहां पर पहले से 42 सीसीटीवी काम कर रहे थे. क्योंकि यहां पर बिहार जाने वाली अधिकांश ट्रेनें खुलती हैं और ज्यादातर लोग यहीं से जाते हैं. इसलिए हमलोगों ने यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जगह-जगह आरपीएफ के जवानों की तैनाती की है. माइक से लगातार एनाउसमेंट हो रहे हैं. बेवजह यात्रियों को प्लेटफॉर्म पर रुकने नहीं दिया जा रहा है. यहां पर यात्रियों की चेकिंग के 16 प्वाइंट बनाए गए हैं. 16 डीएफएमडी(डोर फ्रेम मेटल डिटेक्टर) लगाए गए हैं. हमें ड्रोन मिल जाएंगे तो उसके जरिए भी हम आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर नजर रख सकेंगे.’

आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर नई दिल्ली और पुरानी दिल्ली की तुलना में कम प्लेटफॉर्म हैं. यहां पर यात्रा करने वाले अंडरग्राउंड पास के जरिए प्लेटफॉर्म पर जाते है. आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के लिए एंट्री प्वाइंट से लेकर ट्रेन में बैठने तक आरपीएफ और कई पर्सनल स्टाफ मदद करते दिखाई दे रहे हैं.

आरपीएफ के जवान यह भी देखते हैं कि यात्री को उसकी सीट पर बैठने में किसी तरह की कोई दिक्कत तो नहीं हो रही है. यात्रियों को एक लाइन लगा कर बोगी में जाने को कहा जाता है. बगैर टिकट यात्रा कर रहे यात्रियों को प्लेटफॉर्म पर मौजूद टीटी के पास ले जाकर टिकट भी बनवाते हैं. भीड़ कंट्रोल करने के लिए विशेष ड्यूटी अधिकारी की जगह-जगह तैनाती की गई है. यात्रियों को एनाउंसमेंट के जरिए प्लेटफॉर्म पर न रुकने की बार-बार हिदायत दी जाती है.

indian railway

भारतीय रेलवे की यह सुविधा यात्रियों के लिए 13 नवंबर तक रहेगी. 13 नवंबर तक नई दिल्ली रेलवे स्टेशन, पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन और आनंद विहार स्टेशनों पर पार्सल, लोडिंग और अनलोडिंग सुविधाएं पूरी तरह बंद रखी गई है. बता दें कि छठ और दिवाली के लिए भारतीय रेलवे ने दिल्ली से बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश की ओर चलने वाली 150 अतिरिक्त ट्रेनें चलाने की घोषणा की है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi