S M L

प्रसिद्ध साहित्यिक कृतियों के नाम पर रखे जाएंगे ट्रेनों के नए नाम

हो सकता है जल्द आपको गोदान और कामायनी ऐक्सप्रेस की तरह रश्मिरथी एक्स्प्रेस जैसी साहित्यि ट्रेन में सफर करने का मौका मिले.

Updated On: Sep 02, 2017 04:41 PM IST

Bhasha

0
प्रसिद्ध साहित्यिक कृतियों के नाम पर रखे जाएंगे ट्रेनों के नए नाम

रेल के सफर को थोड़ा सा ज्ञानवर्धक और साहित्यिक बनाने के लिए रेल मंत्रालय ट्रेनों के नाम प्रसिद्ध साहित्यिक कृतियों पर उसके क्षेत्र को ध्यान में रखते हुए रखे जाने के लिए एक प्रस्ताव पर गौर कर रहा है.

रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि अब जल्द ही पश्चिम बंगाल जाने वाले यात्री एक ऐसी ट्रेन से यात्रा कर सकते हैं जिसका नाम महाश्वेता देवी के किसी उपन्यास पर हो. वहीं बिहार जाने वाले यात्री भी रामधारी सिंह दिनकर की कृति पर रखे गए नाम वाले ट्रेन से यात्रा कर पाएंगे.

जानकारी के अनुसार मंत्रालय राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत साहित्यिक कृतियों का एक डाटा बैंक ट्रेनों के नाम रखने के लिए तैयार कर रहा है. बताया जा रहा है कि साहित्यिक कृतियों पर नाम रखने का विचार रेल मंत्री सुरेश प्रभु की तरफ से आया है.

प्रभु का मानना है कि रेलवे देश को जोड़नेवाला धर्मनिरपेक्ष माध्यम है और इसका इस्तेमाल विभिन्न सांस्कृतिक पहचान को दिखाने के लिए किया जा सकता है. इसलिए देश की विभिन्न भाषाओं और क्षेत्रों से आने वाले लेखकों की कृति पर ट्रेनों के नाम रखे जा सकेंगे.

हो चुका है काम शुरू

इस डेटाबेस पर काम कर रहे अधिकारियों ने बताया कि इसके लिए शुरुआत हो गई है, क्योंकि साहित्य अकादमी पुरस्कार जीतने वाली कृतियों को शॉर्टलिस्ट किया जा रहा है.ट्रेनों को नए नाम दिए जाने और नाम बदलने का फैसला मंत्रालय करेगा. जबकि स्टेशनों के नए नाम रखने के लिए अनुमति की जरूरत पड़ेगी.

मई 2014 में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से कई ट्रेनों, स्टेशनों, रेल सर्किट और योजनाओं के नाम बदले गए हैं. उदाहरण के तौर पर महामना एक्सप्रेस का नाम काशी हिंदू विश्वविद्यालय के संस्थापक मदन मोहन मालवीय और अंत्योदय एक्सप्रेस का नाम भारतीय जनसंघ के विचारक दीन दयाल उपाध्याय के नाम पर रखा गया था.

पहले भी रखे जाते रहे हैं ऐसे नाम

वैसे कुछ ट्रेनों के नाम तो पहले से ही साहित्यक हैं. उदाहरण के तौर पर मुंबई से उत्तर प्रदेश के बीच चलने वाली गोदान एक्सप्रेस का नाम प्रेमचंद की प्रसिद्ध कृति ‘गोदान‘ पर है. आजमगढ़ से दिल्ली के बीच चलनेवाली कैफियत एक्सप्रेस का नाम मशहूर उर्दू शायर कैफी आजमी के नाम पर रखा गया था. आजमगढ़ कैफी आजमी का गृहनगर है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi