S M L

ट्रेनों में साफ-सफाई से जुड़ी समस्या अब रेटिंग के जरिए होगी हल

रेलवे ने बताया कि इस तरह की सेवाओं के लिए नए कॉन्ट्रैक्ट बनाए गए हैं

Updated On: Apr 01, 2018 06:33 PM IST

Bhasha

0
ट्रेनों में साफ-सफाई से जुड़ी समस्या अब रेटिंग के जरिए होगी हल

रेल यात्री ट्रेन में होने वाली साफ-सफाई की शिकायत या प्रशंसा अब रेटिंग के जरिए कर सकेंगे. इस रेटिंग का असर  ठेकेदारों को मिलने वाले भुगतान पर पड़ेगा. रेलवे ने बताया कि इस तरह की सेवाओं के लिए नए कॉन्ट्रैक्ट बनाए गए हैं.

कॉन्ट्रैक्ट के अनुसार, ठेकेदारों के कामकाज के आधार पर उनको यात्रियों से मिले स्कोर के मुताबिक, उनकी 30 फीसदी जुर्माना या प्रोत्साहन राशि तय होगी. यात्री सफाई के स्तर को देखते हुए स्कोर देंगे.

इसके अलावा जुर्माने या प्रोत्साहन राशि के लिए सफाई कर्मियों की उपस्थिति, खाने-पीने का सामान, रखरखाव और सेवा जैसी देखी जाएंगी.

कैसे होगी रेटिंग

नए नियम के अनुसार सफाई कर्मियों की उपस्थिति का रिकॉर्ड हर महीने रेलवे सुपरवाइजर को सौंपना होगा जिसके आधार पर 25 फीसदी वेटेज तय किए जाएंगे. वहीं, सफाई के रिकॉर्ड से 15 फीसदी वेटेज मिलेगा और खाने की क्वालिटी, चादर और कंबल देना और अधिकारियों के इंस्पेक्शन के आधार पर 10 फीसदी वेटेज मिलेंगे. रेल यात्रियों के फीडबैक से 30 फीसदी वेटेज मिलेगा.

रेलवे ने बताया कि प्रत्येक वर्ग के स्कोर को जोड़ा जाएगा. इसके आधार पर अंतिम स्कोर तैयार कर ठेकेदारों को दिया जाएगा. इसी स्कोर के आधार पर ठेकेदार का जुर्माना और प्रोत्साहन राशि तय की जाएगी.

अधिकारियों ने बताया कि सफाई के मानक सीधे यात्रियों के अनुभव को प्रभावित करते हैं इसलिए इस प्रोसेस में यात्रियों का फीडबैक शामिल करना जरूरी था.

मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया,  'जब यात्री खुद ही साफ-सफाई पर निगरानी रखेंगे तो हम ट्रेन की सही स्थिति की जानकारी रख पाएंगे.'

यात्रियों का फीडबैक जीपीएस आधारित एक मशीन पर रिकॉर्ड किया जाएगा, जिससे गलतियां न के बराबर होंगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi