S M L

सौदे की कीमत न बताने का मतलब राफेल डील में घोटाला है: राहुल गांधी

कांग्रेस का दावा है कि इस सौदे में पहले की 126 लड़ाकू विमानों की खरीद के सौदे से ज्यादा कीमत अदा की गई है

Updated On: Feb 06, 2018 05:41 PM IST

FP Staff

0
सौदे की कीमत न बताने का मतलब राफेल डील में घोटाला है: राहुल गांधी

फ्रांस के साथ हुई राफेल डील को लेकर राहुल गांधी ने सीधे नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाए हैं. सोमवार को रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में कहा था कि राफेल सौदा दो देशों की सरकारों के बीच का सौदा है. इससे संबंधित जानकारी प्रकट नहीं की जा सकती है. इसके साथ ही सीतारमण ने ये भी कहा था कि इस सौदे में कोई भी सार्वजनिक या निजी कंपनी शामिल नहीं है.

इसके बाद ही राहुल गांधी ने कहा कि अगर रक्षा मंत्री राफेल खरीद में खर्च हुए पैसे का ब्यौरा नहीं देती हैं, तो इसका मतलब क्या है? इसका एक ही मतलब है कि ये एक घोटाला है. मोदी जी पैरिस गए थे. उन्होंने डील बदल दी. सारा देश ये बात जानता है.

 

कांग्रेस 36 लड़ाकू विमान की खरीद में अनियमितताएं बरतने का आरोप लगा चुकी है. कांग्रेस का दावा है कि इस सौदे में पहले की 126 लड़ाकू विमानों (एमएमआरसीए) की खरीद के सौदे से ज्यादा कीमत अदा की गई है. इसके साथ ही, पूर्व के सौदे में कई विमान भारत में तैयार करने की शर्त भी शामिल थी.

राहुल गांधी अब से जनता से मिलेंगे. कांग्रेस प्रेसिडेंट अकबर रोड स्थित पार्टी के दफ्तर मं 7 फरवरी को पहली जनता से मिलेंगे. ये सेशन संसद के सत्र से पहले सुबह होगा.

पार्टी अध्यक्ष की कमान संभालने के बाद से राहुल हफ्ते में तीन दिन लोगों से मिलेंगे. राहुल हर मंगलवार और शुक्रवार और शनिवार को पार्टी के लोगों से मिलना तय कर चुके हैं. खबर के मुताबिक राहुल 25-30 लोगों से मुलाकात करेंगे इनसे मुलाकात पहले से अपॉइंटमेंट के जरिए ही होगी. राहुल के इस नए फैसले के बाद कांग्रेस के पार्टी दफ्तर में कुछ बदलाव भी किए गए हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi