S M L

शुरू हो चुकी है राहुल गांधी की ताजपोशी की प्रक्रिया

कांग्रेस में वर्किंग कमेटी की मंजूरी के बाद अध्यक्ष पद के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो गई है

Updated On: Nov 21, 2017 06:06 PM IST

Syed Mojiz Imam
स्वतंत्र पत्रकार

0
शुरू हो चुकी है राहुल गांधी की ताजपोशी की प्रक्रिया

कांग्रेस में वर्किंग कमेटी की मंजूरी के बाद अध्यक्ष पद के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो गई है.चुनाव के रिटर्निंग ऑफिसर एम रामचंद्रन के दफ्तर से सभी राज्यों को नॉमिनेशन फार्म का प्रोफार्मा भेजा जा रहा है.ये रिटर्निंग ऑफिसर की जिम्मेदारी है कि वो सभी राज्यों को इत्तिला दे की वर्किंग कमेटी ने अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए हरी झंडी दे दी है.

उम्मीद है कि बुधवार तक सभी राज्यों को प्रोफार्मा के साथ चुनाव की प्रक्रिया संबंधित गाइडलाइन भेज दी जाएगी.हालांकि नामांकन का फॉर्म 1 दिसंबर को नेटिफिकेशन होने का बाद ही दिया जाएगा. कांग्रेस के एक सीनियर नेता के मुताबिक हर राज्य से एक नॉमिनेशन फार्म राहुल गांधी के पक्ष में जरूर आएगा. कई राज्यों के अध्यक्षों ने बाकायदा दिल्ली आकर नॉमिनेशन फार्म लेने के लिए रिटर्निंग ऑफिसर के कार्यालय में पूछताछ शुरू कर दी है.

कौन कर सकता है नॉमिनेशन

कांग्रेस में अध्यक्ष पद के नॉमिनेशन के लिए एक प्रक्रिया है. जिसके तहत एक फार्म पर 10 पीसीसी डेलिगेट का हस्ताक्षर होना चाहिए .उसके बाद उम्मीदवार का दस्तखत फार्म में होना चाहिए.नॉमिनेशन का फार्म निशुल्क रिटर्निंग ऑफिसर के दफ्तर से मिलेगा.

sitaram kesri sonia gandhi

1998 में चुनाव प्रचार के दौरान हरियाणा के रोहतक में सोनिया गांधी के साथ तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सीताराम केसरी. (रायटर इमेज)

तकरीबन हर राज्य में संगठन चुनाव के दौरान पीसीसी के सदस्य बनाए जा चुके है. हालांकि छह राज्यों में संगठन के चुनाव नहीं हुए जिसमें गुजरात हिमाचल और कर्नाटक जैसे राज्य हैं. इनके पुराने पीसीसी सदस्य को ही वोट देने का अधिकार कांग्रेस की वर्किंग कमेटी ने दे दिया है.

हाल में हुए चुनाव का इतिहास

1996 में सीताराम केसरी कांग्रेस के अध्यक्ष निर्वाचित हुए. उनके खिलाफ चुनाव लड़े राजेश पायलट. राजेश पायलट चुनाव हार गए. 1998 में सोनिया गांधी को वर्किंग कमेटी ने अध्यक्ष बना दिया. जिसमें सिर्फ रिजॉल्यूशन पास किया गया था. बाद में 2000 में संगठन के चुनाव हुए और जितेन्द्र प्रसाद सोनिया गांधी के खिलाफ चुनाव लड़े लेकिन हार गए. 2005 में सोनिया गांधी निर्विरोध निर्वाचित हो गया. 2010 में फिर से चुनाव हुए .सोनिया गांधी के पक्ष में 56 नामांकन पत्र दाखिल किया गया. लेकिन एक पर्चा खारिज हो गया. सोनिया गांधी के खिलाफ किसी ने पर्चा नहीं भरा.

चुनाव की अहम तारीख

एक दिसंबर को अधिकारिक नोटिफिकेशन होगा जिसके बाद नामांकन का फॉर्म मिलना शुरू हो जाएगा. 2 दिसंबर को नामांकन की प्रक्रिया शुरू होगी जो 4 दिसंबर के दिन में 3 बजे तक चलेगी. 5 दिसंबर को उम्मीदवारों के फार्म की स्क्रूटनी होगी.11 दिसंबर को पर्चा वापसी की तारीख है. हालांकि रिटर्निंग ऑफिसर का एम रामचंद्रन का कहना है कि 4 दिसंबर तक सिर्फ एक पर्चा दाखिल हुआ. तो दिन के तीन बजे के बाद राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष बन जाएंगे. लेकिन अधिकारिक ऐलान में कुछ वक्त लग सकता है.चुनाव से जुड़े लोगों का कहना है कि जरूरी स्क्रूटनी के बाद ही ऐलान किया जाएगा.

(लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi