S M L

पुणे गैंगरेप और मर्डर मामले में तीनों दोषियों को मौत की सजा 

सॉफ्टवेयर इंजीनियर नयना पाठक पुजारी की अक्टूबर, 2009 में गैंगरेप के बाद हत्या कर दी गई थी

Updated On: May 09, 2017 08:16 PM IST

IANS

0
पुणे गैंगरेप और मर्डर मामले में तीनों दोषियों को मौत की सजा 

पुणे में महिला सॉफ्टवेयर इंजीनियर से गैंगरेप और मर्डर केस में तीनों दोषियों को मौत की सजा सुनाई गई है. एक फास्ट ट्रैक कोर्ट ने सॉफ्टवेयर इंजीनियर नयना पाठक पुजारी के साथ अक्टूबर, 2009 में गैंगरेप कर उनकी हत्या करने वाले तीनों अपराधियों को मौत की सजा सुनाई है.

विशेष जज एल एल येनकर ने सोमवार को दिन भर चले दोनों पक्षों के वकीलों की बहस के बाद योगेश अशोक राउत, महेश बाला साहेब ठाकुर और विश्वास हिंदूराव कदम को अपहरण, लूट, गैंगरेप और हत्या का दोषी करार दिया था.

Hang till death

(फोटो: फेसबुक से साभार)

विशेष सरकारी वकील हर्षद निंबालकर ने हादसे को 'रेयरेस्ट ऑफ द रेयर' करार दिया था. उन्होंने पीड़िता के साथ हुई बर्बरता का हवाला देते हुए दोषियों को फांसी देने की कठोर मांग की थी.

दोषी कानून के तहत कठोरतम सजा पाने के लायक

उन्होंने कहा कि अभियोजन पक्ष पूरे घटनाक्रम को साबित करने में सफल रहा है. जिस तरह से इस संगीन अपराध को अंजाम दिया गया, उसके अनुसार दोषी कानून के तहत कठोरतम सजा पाने के लायक हैं.

आरोपियों पर दोष साबित होने के बाद उन्होंने कहा, 'पीड़िता के साथ जिस बर्बर तरीके से गैंगरेप किया गया जिसके बाद उसकी हत्या कर दी गई, यह एक 'रेयरेस्ट ऑफ द रेयर' केस है.'

मामले में गिरफ्तार एक सह-आरोपी राजेश पांडुरंग चौधरी को सरकारी गवाह बनने के चलते कोर्ट ने माफी दे दी. पीड़िता के पति अभिजीत पुजारी और उनकी रिश्तेदारों ने दोषियों को फांसी की सजा सुनाए जाने पर खुशी जाहिर की.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi