S M L

Pulwama Attack: मसूद अजहर ने अस्पताल से दिया था बम विस्फोट का निर्देश, ऑडियो टेप में भेजा था संदेश

पुलवामा आतंकी हमले के लिए तैयार अपने आदमियों को आठ दिन पहले ही अजहर ने धीमी आवाज में एक ऑडियो संदेश जारी किया था

Updated On: Feb 17, 2019 01:50 PM IST

FP Staff

0
Pulwama Attack: मसूद अजहर ने अस्पताल से दिया था बम विस्फोट का निर्देश, ऑडियो टेप में भेजा था संदेश

जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर, जो पठानकोट हमले का भी मास्टरमाइंड था, ने अपने संगठन के सदस्यों को पाकिस्तान के रावलपिंडी में आर्मी बेस अस्पताल से पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती बम विस्फोट करने के निर्देश दिए थे. इस अस्पताल में पिछले चार महीनों से उसका किसी लाइलाज बीमारी का इलाज चल रहा है. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार अपनी बीमारी के चलते वह यूनाइटेड जिहाद काउंसिल (यूजेसी) की पिछली छह प्रमुख बैठकों में शामिल नहीं हो पाए थे. इन जेहादी समूहों का प्रयोग पाकिस्तान भारत के खिलाफ करता है. हालांकि पुलवामा आतंकी हमले के लिए तैयार अपने आदमियों को आठ दिन पहले ही अजहर ने धीमी आवाज में एक ऑडियो संदेश जारी किया था.

भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने के लिए तैयारी कर रहा है

ऑडियो संदेश में अजहर ने उसके भतीजे उस्मान की मौत का बदला लेने के लिए कहा है, जिसे पिछले साल अक्टूबर में त्राल में सुरक्षा बलों ने मार दिया था. अजहर ने अपने टेप में यह कहा कि इस युद्ध में मौत से ज्यादा आनंददायक कुछ भी नहीं है. वह अपने आदमियों को बताता है कि कैसे वह भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने के लिए तैयारी कर रहा है. उसने ऑडियो टेप में कहा- कोई इन्हें दहशतगंज कहेगा, कोई इन्हें निकम्मा कहेगा, कोई इन्हें पागल कहेगा, कोई इन्हें अमन के लिए खतरा कहेगा. हालांकि अजहर ने यूजेसी के अन्य साथियों के साथ पुलवामा हमले की योजना साझा नहीं की थी.

कश्मीर में 60 जैश के आतंकवादी काम कर रहे हैं

इसके बजाय अजहर ने चुपके से अपने दूसरे भतीजे मोहम्मद उमैर और अब्दुल राशिद गाजी को कश्मीर घाटी में युवाओं का ब्रेनवॉश करने के लिए इन टेपों का इस्तेमाल करने का निर्देश दिया और उन्हें IED विस्फोटकों के साथ फिदायीन हमले के लिए प्रेरित किया. कश्मीर के एक शीर्ष खुफिया अधिकारी ने कहा- कोई भी JeM का व्यक्ति आगे नहीं आएगा. वह सभी तीन शीर्ष नेताओं - उमैर, इस्माइल और अब्दुल रशीद गाजी के साथ दक्षिण कश्मीर के किसी इलाके में छिपे हुए हैं. प्राप्त जानकारी के अनुसार कश्मीर में 60 जैश के आतंकवादी काम कर रहे हैं, जिनमें से 35 पाकिस्तान से हैं और बाकी स्थानीय हैं.

19 जनवरी को घुसपैठ के लिए नए आतंकी लॉन्चपैड पर चर्चा की गई

उनकी अनुपस्थिति के परिणामस्वरूप UJC के विचार-विमर्श की अध्यक्षता हिजबुल मुजाहिद्दीन के कमांडर सैयद सलाहुद्दीन ने की है. 19 जनवरी को आखिरी बार घुसपैठ के लिए नए आतंकी लॉन्चपैड पर चर्चा की गई थी. खुफिया सूत्रों ने बताया कि एक अन्य मीटिंग पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) के मुजफ्फराबाद में टाउन हॉल में हुई थी. इसमें सईद उस्मान शाह (वरिष्ठ कमांडर) और एचएम के इम्तियाज आलम (उप प्रमुख), झेलम घाटी में लॉन्चिंग प्रमुख डॉ. अबू खालिद, शेख जमीलुल रहमान, तहरीक-उल-मुजाहिदीन के प्रमुख बिलाल कश्मीरी, जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख और आईएसआई के ब्रिगेडियर जुबैर ने भाग लिया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi