S M L

डिजिटल इंडिया के लाभार्थियों से PM मोदी की चर्चा, जानें संबोधन की अहम बातें

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोई कितनी भी गाली क्यों न दें लेकिन हमें देश को आगे ले जाना है और यह दिख रहा है कि देश बदल रहा है

FP Staff Updated On: Jun 15, 2018 02:15 PM IST

0
डिजिटल इंडिया के लाभार्थियों से PM मोदी की चर्चा, जानें संबोधन की अहम बातें

डिजिटल इंडिया के आलोचकों को जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि दलाली रोकने का अभियान ‘डिजिटल इंडिया’ है. इससे परेशान होकर दलाल और बिचौलिए तरह-तरह की अफवाह फैलाने में लगे हैं लेकिन गांव, गरीब, किसान के सशक्तीकरण और लोगों के हक की लड़ाई के लिए डिजिटल इंडिया को और मजबूत बनाया जाएगा. आइए जानें आज के संबोधन की अहम बातें.

-पीएम ने कहा, यह अभियान दलाली बनाम डिजिटल इंडिया का है और लोगों को अपने हक की लड़ाई के इस डिजिटल माध्यम का पूरा उपयोग करना चाहिए.

-प्रधानमंत्री ने कहा कि जब डिजिटल इंडिया कार्यक्रम की शुरुआत की गई थी तब कुछ लोगों ने इसकी कितनी आलोचना की थी. कहा था कि जिस देश में गांवों में ऐसी सुविधा नहीं है, लोग तकिये के नीचे पैसा रखते हैं, बिचौलिये बीच में पैसा खाते हैं, वहां यह कैसे चलेगा. लेकिन आज घर में काम करने वाली महिला मीनू, 10वीं और 12वीं में पढ़ने वाली लड़कियों, सपेरा समुदाय से आने वाली बच्ची ने इसका उपयोग कर आलोचकों को जवाब दे दिया है.

-मोदी ने कहा, लेकिन आज जब गांव, गरीब, किसान इस माध्यम का उपयोग कर रहा है तब कुछ लोग नई-नई अफवाह फैला रहे हैं. कह रहे हैं कि इसमें सुरक्षा नहीं है. इस साजिश के पीछे वे लोग हैं जिनकी दुकानें बंद हो गई हैं. बिचौलियों के कमीशन बंद हो गए हैं. ऐसे में वे लोग नई-नई अफवाहें फैला रहे हैं.

-पीएम मोदी ने कहा, ऐसे लोग इस तरह की अफवाहें इसलिए फैला रहे हैं क्योंकि इसके कारण कालाबाजारी बंद हो रही है और रुपए की सुरक्षा बढ़ी है. अब बिचौलिए तो ऐसा करेंगे ही क्योंकि उनकी दुकानें बंद हो गई हैं.

-प्रधानमंत्री ने कहा कि कोई कितनी भी गाली क्यों न दें लेकिन हमें देश को आगे ले जाना है और यह दिख रहा है कि देश बदल रहा है.

-उन्होंने कहा कि यह लड़ाई दलाली बनाम डिजिटल इंडिया की है. दलाल आज डिजिटल इंडिया से परेशान हैं. डिजिटल इंडिया का गांव, गरीब, किसान, युवा भरपूर लाभ उठा रहे हैं जो गांव के सशक्तीकरण और साक्षरता का बड़ा माध्यम बनकर उभरा है.

-पीएम मोदी ने कहा कि इस पहल के तहत प्रधानमंत्री ग्राम डिजिटल साक्षरता अभियान की भी शुरुआत की गई थी. इसके तहत 20 घंटे के बुनियादी कंप्यूटर कोर्स की जानकारी देने का प्रावधान किया गया है. अब तक सवा करोड़ लोगों को ट्रेनिंग दी गई है जिसमें 70 प्रतिशत अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति समुदाय से हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi