S M L

प्रधानमंत्री मोदी ने आधारभूत क्षेत्रों में प्रगति की समीक्षा की

वित्तीय वर्ष 2017-18 के दौरान प्रतिदिन होने वाले सड़क निर्माण की लंबाई 26.93 किलोमीटर थी जो कि 2013-14 के दौरान 11.67 किलोमीटर थी

Updated On: Aug 03, 2018 04:38 PM IST

Bhasha

0
प्रधानमंत्री मोदी ने आधारभूत क्षेत्रों में प्रगति की समीक्षा की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को प्रमुख आधारभूत क्षेत्रों सड़क, ग्रामीण और शहरी आवास, रेलवे, हवाई अड्डा और बंदरगाहों में प्रगति की समीक्षा की.

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि यहां नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत की ओर से दी गई प्रस्तुति के दौरान इस पर गौर किया गया कि सड़क निर्माण की गति में तेज वृद्धि हुई है.

वित्तीय वर्ष 2017-18 के दौरान प्रतिदिन होने वाले सड़क निर्माण की लंबाई 26.93 किलोमीटर थी जो कि 2013-14 के दौरान 11.67 किलोमीटर थी.

प्रधानमंत्री को परिवहन क्षेत्र में डिजिटलीकरण के संबंध में हुई प्रगति के बारे में सूचित किया गया. अभी तक 24 लाख से अधिक आरएफआईडी टैग जारी किए गए हैं और अब टोल राजस्व में से 22 प्रतिशत से अधिक इलेक्ट्रानिक टोल संग्रहण से आता है.

2014 से 2018 के बीच 44 हजार से अधिक गांवों को सड़क नेटवर्क से जोड़ा गया है

बयान में कहा गया कि सुखद यात्रा एप्लीकेशन वर्तमान समय तक उपयोगकर्ताओं द्वारा एक लाख बार डाउनलोड किया गया है. यह एप्लीकेशन सड़क की स्थिति के बारे में सूचना मुहैया कराता है और शिकायतें दर्ज कराने में सहायक होता है.

प्रधानमंत्री ने इलेक्ट्रानिक टोल संग्रहण में तेज प्रगति का आह्वान किया. प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत पात्र बस्तियों में से 88 प्रतिशत अब ग्रामीण सड़कें जुड़ चुकी हैं.

बयान में कहा गया कि 2014 से 2018 के बीच 44 हजार से अधिक गांवों को सड़क नेटवर्क से जोड़ा गया है. वहीं पूर्ववर्ती चार वर्षों में यह आंकड़ा करीब 35 हजार गांवों का था.

सड़कों की जीआईएस मैपिंग चल रही है और अभी तक 20 राज्य जियोस्पेशियल रूरल रोड इंफार्मेशन सिस्टम (जीआरआरआईएस) पर आ चुके हैं.

हरित प्रौद्योगिकी और गैर पारंपरिक सामग्री जैसे बेकार प्लास्टिक और फ्लाई ऐश का इस्तेमाल ग्रामीण सड़क निर्माण में किया जा रहा है.

रेलवे क्षेत्र में क्षमता और रोलिंग स्टॉक में महत्वपूर्ण वृद्धि हुई है. 2014 और 2018 के दौरान नयी लाइनों, दोहरीकरण और अमान परिवर्तन में वृद्धि हुई है जो कि 9528 किलोमीटर तक है. यह पूर्ववर्ती चार वर्ष की अवधि से 56 प्रतिशत अधिक है.

उड्डयन क्षेत्र में 2014 से 2018 के दौरान चार वर्षों में यात्री यातायात 62 प्रतिशत बढ़ा है जो कि पूर्ववर्ती चार वर्षों के दौरान 18 प्रतिशत था.

उड़ान योजना के तहत टियर दो और टियर तीन शहरों में अब 27 हवाई अड्डे परिचालित हैं. बंदरगाह क्षेत्र में प्रमुख बंदरगाहों में यातायात 2014 और 2018 के दौरान 17 प्रतिशत बढ़ा है.

प्रधानमंत्री को सूचित किया गया कि ग्रामीण क्षेत्रों में 2014 से 2018 की अवधि के दौरान एक करोड़ से अधिक मकानों का निर्माण हुआ है. जबकि पूर्ववर्ती चार वर्षों के दौरान 25 लाख मकानों का निर्माण हुआ था. इससे आवास क्षेत्र और उससे संबंधित निर्माण उद्योगों में रोजगार बढ़ा है.

एक स्वतंत्र अध्ययन के अनुसार, औसत निर्माण कार्य पूर्ण होने के समय में तेज गिरावट हुई है. यह 2015 और 2016 के दौरान 314 दिन से कम होकर 2017...2018 114 दिन हो गया. जोर अब कम कीमत के हाउसिंग डिजाइन प्राद्यौगिकी पर दिया जा रहा है.

शहरी आवास में जोर नई निर्माण प्रौद्योगिकियों पर दिया जा रहा है. प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के शुरू होने के बाद से इसके तहत 54 लाख मकानों का निर्माण हुआ है. समीक्षा बैठक करीब दो घंटे चली और इसमें आधारभूत ढांचा से संबंधित मंत्रालयों के शीर्ष अधिकारियों ने हिस्सा लिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi