S M L

पहली बार हिंदी में आएंगे सुप्रीम कोर्ट के फैसले, राष्ट्रपति कोविंद ने जताई खुशी

राष्ट्रपति ने कहा कि संविधान दिवस 2019 तक मैं देशभर के सभी हाईकोर्ट से उम्मीद करता हूं कि वे इसे लागू करें

Updated On: Nov 26, 2018 05:21 PM IST

Bhasha

0
पहली बार हिंदी में आएंगे सुप्रीम कोर्ट के फैसले, राष्ट्रपति कोविंद ने जताई खुशी

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को कहा कि उन्हें खुशी है कि सुप्रीम कोर्ट ने वादियों को कोर्ट के फैसलों की अनुवाद की गई प्रमाणित प्रतियां मुहैया कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. कोविंद ने कहा कि देश में कुछ हाईकोर्ट भी वादियों को स्थानीय भाषाओं में अनुवाद की गई प्रमाणिक प्रतियां मुहैया करा रहे हैं.

उन्होंने संविधान दिवस समारोह के उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, 'एक साल पहले मैंने इसी मंच पर कोर्ट के फैसलों की क्षेत्रीय भाषाओं में अनुवाद की गई प्रमाणिक प्रतियों की सुविधा का सुझाव दिया था. इससे उन वादियों को मदद मिलेगी जो अंग्रेजी भाषा नहीं जानते.'

उन्होंने कहा, 'मुझे खुशी है कि भारत के चीफ जस्टिस के नेतृत्व में सुप्रीम कोर्ट ने उनके पद संभालने के कुछ ही समय बाद हिंदी में अनुवादित प्रमाणित प्रतियों के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी. कुछ हाईकोर्ट भी वादियों को स्थानीय भाषाओं में अनुवाद की गई प्रमाणित प्रतियां जारी कर रहे हैं.'

राष्ट्रपति ने कहा कि संविधान दिवस 2019 तक, 'मैं देशभर के सभी हाईकोर्ट से उम्मीद करता हूं कि वे इसे लागू करें. यह न्याय की सीमाओं को विस्तारित करने में मदद करेगा.' दो नवंबर को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सुप्रीम कोर्ट कवर करने वाले पत्रकारों से अनौपचारिक चर्चा में कहा था कि वादी यदि अंग्रेजी नहीं समझ सकते तो कोर्ट उन्हें फैसले की उनकी मातृभाषा में अनुवादित प्रमाणिक प्रतियां मुहैया कराएगा.

चीफ जस्टिस ने कहा था, 'इसकी शुरूआत हम हिंदी में कर सकते हैं.' संविधान दिवस 26 नवंबर को मनाया जाता है. 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा ने भारत के संविधान को मंजूर किया था और वह 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi