S M L

राष्ट्रपति ने सात लोगों को जिंदा जलाने वाले की दया याचिका खारिज की

पिछले साल जुलाई में राष्ट्रपति बनने के बाद यह पहला मौका है, जब कोविंद ने किसी दया याचिका पर फैसला किया

FP Staff Updated On: Jun 03, 2018 03:34 PM IST

0
राष्ट्रपति ने सात लोगों को जिंदा जलाने वाले की दया याचिका खारिज की

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एक ही परिवार के सात लोगों को जिंदा जला कर मारने के मामले में मौत की सजा का सामना कर रहे व्यक्ति की दया याचिका खारिज कर दी है. राष्ट्रपति पद संभालने के बाद कोविंद पास यह पहली दया याचिका दायर की गई थी.

बिहार के वैशाली जिले के राघोपुर प्रखंड में घटी यह वीभत्स घटना 2006 की है, जिसमें जगत राय नाम के व्यक्ति ने भैंस चोरी होने के मामले में विजेंद्र महतो और उसके परिवार के छह सदस्यों को जिंदा जला दिया था.

क्या थी वजह?

महतो ने सितंबर 2005 में भैंस चोरी होने का एक मामला दर्ज कराया था, जिसमें जगत राय के अलावा वजीर राय और अजय राय को आरोपी बनाया था. ये आरोपी (जो अब दोषी हैं) महतो पर मामला वापस लेने का दबाव बना रहे थे. जगत ने बाद में महतो के घर में आग लगा दी, जिसमें महतो की पत्नी और पांच बच्चों की मौत हो गई थी. आग में बुरी तरह झुलसे महतो की भी कुछ महीने बाद मौत हो गई थी.

राय को इस मामले का दोषी पाया गया और स्थानीय अदालत ने उसे फांसी की सजा सुनाई. बाद में हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट ने भी निचली अदालत की सजा बरकरार रखी. इस पर राय की दया याचिका राष्ट्रपति सचिवालय भेजा गया था. ये भी पढ़े- दलित होने पर राष्ट्रपति को मंदिर में नहीं दिया गया प्रवेश! SDM ने किया खंडन

राष्ट्रपति कार्यालय ने इस बारे में गृह मंत्रालय के विचार मांगे थे, जिसने पिछले साल 12 जुलाई को अपनी अनुशंसाएं भेजी थीं. राष्ट्रपति भवन की एक विज्ञप्ति के अनुसार, 'राष्ट्रपति ने महतो की दया याचिका 23 अप्रैल 2018 को खारिज कर दिया.'

पिछले साल जुलाई में राष्ट्रपति बनने के बाद यह पहला मौका है, जब कोविंद ने किसी दया याचिका पर फैसला किया. राष्ट्रपति सचिवालय में कोई भी अन्य दया याचिका अब लंबित नहीं है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
DRONACHARYA: योगेश्वर दत्त से सीखिए फितले दांव

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi