S M L

प्रद्युम्न मर्डर केस: हजार पन्नों की चार्जशीट, ड्राइवर का नाम नहीं

चार्जशीट में खुलासा किया गया है कि आरोपी किशोर ने कम से कम छह दोस्‍तों से किसी बच्‍चे को मारने के लिए जहर या चाकू के बारे में पूछा था

FP Staff Updated On: Feb 05, 2018 10:09 PM IST

0
प्रद्युम्न मर्डर केस: हजार पन्नों की चार्जशीट, ड्राइवर का नाम नहीं

गुरुग्राम के एक विद्यालय में सात वर्षीय छात्र की हत्‍या के मामले में सीबीआई ने सोमवार को चार्जशीट दाखिल कर दी. एक हजार पन्‍नों की चार्जशीट में ड्राइवर अशोक का नाम नहीं है. इस चार्जशीट में केवल किशोर छात्र को ही आरोपी बनाया गया है. मामले की अगली तारीख 12 फरवरी रखी गई है. बताया जा रहा है कि सीबीआई सप्‍लीमेंट्री चार्जशीट में बाकी अभियुक्‍तों का जिक्र करेगी क्‍योंकि अभी भी इस मामले में जांच चल रही है. हालांकि इस चार्जशीट से सबसे पहले पकड़े गए बस के ड्राइवर अशोक को नहीं रखा गया है.

इसमें 127 गवाहों से पूछताछ और उनके बयानों को शामिल किया गया है. चार्जशीट में कहा गया है कि आरोपी किशोर ने हत्‍या के बाद खून के धब्‍बे भी मिटाए थे. अशोक कुमार को कोर्ट से सभी आरोपों से बरी किए जाने के बाद इस मामले में गवाह बनाया जाएगा. कोर्ट से बरी किए जाने तक वह आरोपी रहेगा. मामले की अगली सुनवाई अब 12 फरवरी को होगी.

चार्जशीट में क्या है?

चार्जशीट में खुलासा किया गया है कि आरोपी किशोर ने कम से कम छह दोस्‍तों से किसी बच्‍चे को मारने के लिए जहर या चाकू के बारे में पूछा था. मामले में ड्राइवर अशोक की गिरफ्तारी के बाद वह रिलैक्‍स हो गया था. उसे परीक्षा के बाद पता चला कि हत्‍या के बारे सभी को जानकारी हो गई है. बाद में उसने इंटरनेट पर फिंगरप्रिंट हटाने के बारे में सर्च भी किया था ताकि उसका नाम केस में ना आए. इंटरनेट में सामने आया कि हथेली को एसिड से नुकसान पहुंचाने पर फिंगरप्रिंट नहीं आते लेकिन आरोपी ने ऐसा नहीं किया.

सीबीआई ने चार्जशीट में साथ ही दोहराया कि गुड़गांव पुलिस की जांच में खामियां थी. ड्राइवर अशोक पर हत्‍या की बात कबूलने का दबाव बनाया गया और उसकी ओर से दी जानकारी पर कोई जांच नहीं की गई.

प्रद्युम्न के पिता ने चार्जशीट दाखिले पर कहा कि अब उम्मीद है कि इंसाफ मिल जाएगा. जज ने आरोपी की जमानत याचिका खारिज कर दी है. अगली सुनवाई 12 फरवरी को होगी. अब सीबीआई सप्लीमेंट्री चार्जशीट फ़ाइल करेगी. स्कूल प्रशासन पर हमने शुरू से सवाल उठाया था.

क्या है मामला?

8 सितंबर को गुरुग्राम के एक स्कूल में 7 साल के छात्र की गला रेतकर बेरहमी से हत्या कर दी गई थी. हरियाणा पुलिस ने उसी दिन स्कूल बस के कंडक्टर अशोक को गिरफ्तार कर लिया था. बाद में मामला सीबीआई को सौंपा गया जिसके बाद इस सनसनीखेज हत्याकांड में बड़ा मोड़ आया.

सीबीआई ने जांच के बाद स्कूल के ही 11वीं के एक छात्र को गिरफ्तार किया. जांच के बाद सामने आया है कि आरोपी ने पीटीएम और परीक्षा टालने के लिए हत्या को अंजाम दिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi