S M L

ये मोदीजी का स्टाइल है! अक्सर प्रोटोकॉल के बंधन तोड़ निकल पड़ते हैं पीएम

पीएम मोदी शेख हसीना के स्वागत के लिए प्रोटोकॉल तोड़ आईजीआई हवाईअड्डे पहुंचे थे

FP Staff Updated On: Apr 11, 2017 02:08 PM IST

0
ये मोदीजी का स्टाइल है! अक्सर प्रोटोकॉल के बंधन तोड़ निकल पड़ते हैं पीएम

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कुछ बातें ये दिखाती हैं कि वे नियमों और किसी तरह के प्रोटोकॉल में शायद भरोसा नहीं रखते.

फिर चाहे वो बाहर से आए मेहमानों का एयरपोर्ट पर पहुंच स्वागत करने की बात हो या फिर पकिस्तान में नवाज शरीफ के जन्मदिन पर की गई 'सरप्राइज विजिट'.

अभी हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैलकम टर्नबुल चार दिवसीय भारत दौरे पर नई दिल्ली पहुंचे थे. सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मैलकम टर्नबुल ने मेट्रो की सवारी की.

पीएम की मेट्रो वाली सेल्फी

New Delhi: Prime Minister Narerndra Modi along with his Australian counterpart Malcolm Turnbull travel in Metro train in New Delhi on Monday. PTI Photo(PTI4_10_2017_000177B)

दिल्ली मेट्रो में टर्नबुल के साथ पीएम मोदी की सेल्फी: [तस्वीर: पीटीआई]
पीएम मोदी ने टर्नबुल के साथ दिल्ली मेट्रो से सफर किया. वे दोनों हौज़ खास विलेज मेट्रो से सवार होकर अक्षरधाम मेट्रो स्टेशन पहुंचे.

टर्नबुल के साथ प्रधानमंत्री मोदी अक्षरधाम मंदिर गए. मोदी और टर्नबुल मंदिर परिसर भी घूमे. उन्होंने मेट्रो में टर्नबुल के साथ सेल्फियां भी लीं और अपनी तस्वीरें ट्वीटर पर शेयर कीं.

इस बात की सोशल मीडिया पर लोगों ने खूब चर्चा की और कहा कि आखिर पीएम मोदी कैसे मेट्रो में सेल्फियां ले रहे रहे हैं. जबकि नियम के अनुसार मेट्रो में तस्वीरें लेने की तो इजाजत तो नहीं हैं. लेकिन ऐसा पहली बार तो है नहीं जब मोदी जी ने प्रोटोकॉल का ख्याल नहीं रखा हो.

प्रोटोकॉल तोड़ पहुंचे एयरपोर्ट 

पीएम मोदी और शेख हसीना की एयरपोर्ट की तस्वीर: [पीटीआई]

पीएम मोदी और शेख हसीना की एयरपोर्ट की तस्वीर: [पीटीआई]
बस कुछ ही दिन पहले बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना 7 साल बाद अपनी चार दिवसीय भारत यात्रा पर दिल्ली पहुंचीं. पीएम मोदी उनके स्वागत के लिए हवाईअड्डे पर मौजूद थे.

और खास बात यह थी कि पीएम मोदी शेख हसीना के स्वागत के लिए प्रोटोकॉल तोड़ आईजीआई हवाईअड्डे पहुंचे थे. जिसकी सोशल मीडिया पर खूब चर्चा भी हुईं.

उत्तर प्रदेश चुनाव के रोड शो 

अभी-अभी सुर्खियों में बना रहा उत्तरप्रदेश चुनाव, जिसमें मोदी जी ने अपनी पार्टी के प्रचार में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी. वे लगातार रैलियां करते रहे और अंत में तो उन्होंने अपने लोकसभा क्षेत्र बनारस में 3 दिन के रोड शो करने का फैसला कर लिया.

इस रोड शो के दौरान पीएम अचानक ही बनारस की सड़कों पर उतर आए, और वे पैदल ही लाल बहादुर शास्त्री के घर चले गए थे. जो सुरक्षा के नजरिए तो बड़ा ही रिस्की था लेकिन इससे लोगों के बीच उनकी छवि काफी असरदार बनती दिखी.

 नियम का भी उल्लंघन 

अब थोड़ा पीछे जाते हैं और याद करते हैं 26 जनवरी देश के 68वें गणतंत्र दिवस के परेड की. जब पीएम मोदी राजपथ वहां मौजूद नागरिकों के स्वागत में भीड़ के बीच चले गए.

ये दूसरी बार था जब पीएम मोदी ने ऐसा किया था. इसके पहले वाले गणतंत्र दिवस पर भी मोदी जी बगैर प्रोटोकॉल के जनता के बीच चले गए थे.

इसके अलावा पीएम मोदी के गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के साथ झंडे को सलामी देने की बात पर खूब बवाल मचा था.

क्योंकि भारतीय फ्लैग कोड सेंक्शन vi के अनुसार ‘तिरंगे की सलामी सिर्फ वे कर सकते हैं जो यूनिफार्म में हों या फिर जिसने ध्वज फहराया हो.’

प्रोटोकॉल से अलग, जनता के बीच

जाहिर है कि मोदी काफी सुरक्षा में चलते हैं और एक संवैधानिक पद पर होने के कारण उन्हें कई तरह के नियमों के बंधन में रहना पड़ता है. लेकिन समय-समय पर इन नियमों को झटककर कुछ अलग कर देने की उनकी अदा उनकी राजनीतिक छवि का बड़ा हिस्सा है.

जनता के बीच जाकर, विश्वनेताओं को सरप्राइज देकर मोदी खुद को अधिक मानवीय और दूसरों को और निकट बना लेते हैं. यह मोदी की शख्सियत के साथ-साथ राजनीतिक और डिप्लोमैटिक स्टाइल का भी एक हिस्सा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi