S M L

सर्जिकल स्ट्राइक पर बोले PM मोदी - उन्हें उसी भाषा में जवाब देंगे, जो उन्हें समझ आती है

लंदन में आयोजित ‘भारत की बात, सबके साथ’ कार्यक्रम में पीएम ने और भी कई मुद्दों पर अपनी राय जाहिर की

Updated On: Apr 19, 2018 09:22 AM IST

Bhasha

0
सर्जिकल स्ट्राइक पर बोले PM मोदी - उन्हें उसी भाषा में जवाब देंगे, जो उन्हें समझ आती है
Loading...

पाकिस्तान पर निशाना साधने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को 2016 के सर्जिकल हमलों का जिक्र किया. इस दौरान पीएम ने कहा कि भारत आतंकवाद का निर्यात करने वालों को बर्दाश्त नहीं करेगा और उन्हें उसी भाषा में जवाब देगा ‘जो उन्हें समझ आती है.’

लंदन के सेंट्रल हॉल वेस्टमिंस्टर में ‘भारत की बात, सबके साथ’ कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा, जब ‘किसी ने आतंक के निर्यात की फैक्ट्री लगा ली हो और हम पर पीछे से हमले की कोशिशें करता हो तो मोदी उसी भाषा में जवाब देना जानता है.’ कार्यक्रम में एक शख्स ने जब सर्जिकल हमलों पर सवाल किया तो पीएम मोदी ने जवाब दिया, ‘जिन्हें आतंक का निर्यात पसंद है, मैं उनसे कहना चाहता हूं कि भारत बदल गया है और उनके पुराने तौर-तरीकों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.’

जिस शख्स ने यह सवाल किया उसे बोलने में मुश्किल आ रही थी. उसने एक दूसरे शख्स की मदद से सर्जिकल हमलों पर सवाल किया जिस पर प्रधानमंत्री ने जवाब दिया और उस व्यक्ति की हिम्मत और समर्पण की तारीफ की. उन्होंने कहा, ‘हम शांति में यकीन रखते हैं. लेकिन हम आतंक का निर्यात करने वालों को बर्दाश्त नहीं करेंगे. हम उन्हें करारा जवाब देंगे और उसी भाषा में देंगे जिसे वे समझते हैं. आतंकवाद कभी मंजूर नहीं किया जाएगा.’

पहले पाक को बताया फिर मीडिया को

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें सेना पर नाज है क्योंकि उन्होंने सर्जिकल हमलों को सटीक अंजाम दिया और सुबह होने से पहले ही अपना काम पूरा कर वह लौट आई. पीएम ने बताया कि कैसे भारत ने हमलों के बारे में पहले पाकिस्तान को बताया और फिर मीडिया और लोगों को बताया. उन्होंने कहा, ‘मैंने कहा कि जब भारत को पता चले उससे पहले ही हमें पाकिस्तान को कॉल करके बता देना चाहिए. हम उन्हें सुबह 11 बजे से ही फोन कर रहे थे लेकिन वे फोन पर आने से भी डरे हुए थे. 12 बजे हमने उनसे बात की और तब भारतीय मीडिया को बताया.’

भारत के इतिहास का जिक्र कर मोदी ने जोर देकर कहा कि भारत किसी की जमीन पर कब्जा करने के बारे में नहीं सोचता. मोदी ने कहा, ‘पहले और दूसरे विश्व युद्ध के दौरान हमारा कोई लेना-देना नहीं था, लेकिन हमारे सैनिकों ने जंग में हिस्सा लिया. ये बड़े त्याग थे. संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षा बलों में हमारी भूमिका को देखिए.’ यह पूछे जाने पर कि सेना की वीरता पर सवाल उठाने वाले कुछ लोगों के बारे में वह क्या सोचते हैं, इस पर मोदी ने कहा कि वह इस मंच का इस्तेमाल किसी की आलोचना के लिए नहीं करना चाहते.

उन्होंने कहा, ‘मैं बस उम्मीद करता हूं कि ईश्वर उन्हें सद्बुद्धि दे.’ इस पर हॉल में बैठे लोगों ने खूब ठहाके लगाए. आर्मी ने 28-29 सितंबर 2016 की दरम्यानी रात एलओसी के पार जाकर चार आतंकी ठिकानों पर सर्जिकल हमला किया था जिसमें करीब 20 आतंकी मारे गए थे.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi