S M L

पीएम मोदी: कश्मीरी नौजवानों के पास दो रास्ते हैं टेररिज्म या टूरिज्म!

पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को जम्मू-कश्मीर के ऊधमपुर में एक जनसभा को संबोधित किया.

Updated On: Apr 03, 2017 11:38 AM IST

FP Staff

0
पीएम मोदी: कश्मीरी नौजवानों के पास दो रास्ते हैं टेररिज्म या टूरिज्म!

30पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को चेनानी-नशरी सुरंग का उदघाटन कर इसे देश और जम्मू-कश्मीर को लोगों को समर्पित किया.

ये सुरंग देश की सबसे लंबी सुरंग है और जम्मू-कश्मीर राजमार्ग पर बनी हुई है. इस सुरंग की लंबाई 9.28 किलोमीटर है और ये सभी आधुनिक सुविधाओं से पूरी तरह लैस है.

इस ऐतिहासिक मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी ने ऊधमपुर में एक जनसभा को संबोधित किया. अपने संबोधन में उन्होंने जम्मू-कश्मीर के लोगों को संदेश दिया. जानते हैं उनके भाषण की 10 बड़ी बातें-

1. अपने भाषण की शुरूआत पीएम ने ये कहकर की कि नवरात्र का पावन पर्व चल रहा है और मुझे मां के चरणों में आने का अवसर मिला है. ये मेरा सौभाग्य है.

2. इस टनल की चर्चा पूरे हिंदुस्तान में होगी. दुनिया में जितने भी पर्यावरण चिंतक हैं उनके लिए भी इस टनल का निर्माण एक बहुत बड़ी चिंता है, बहुत बड़ा विश्वास है.

3. ये सिर्फ एक लंबी सुरंग नहीं है. ये लंबी सुरंग जम्मू-कश्मीर के लिए एक लंबी छलांग है.

4. ये टनल हजारों करोड़ों की लागत से बनी है. मैं गर्व से कहता हूं कि इस टनल के निर्माण में भारत सरकार के पैसे के साथ जम्मू-कश्मीर के जवानों के पसीने की महक आ रही है.

5. एक तरफ राज्य के भटके हुए नौजवान पत्थर मारने में लगे हैं. दूसरी तरफ उसी कश्मीर के जवान पत्थर काटकर भाग्य बदलने में लगे हैं.

6. ये टनल कश्मीर घाटी की भाग्य रेखा है. कश्मीर के किसानों की फसल दिल्ली पहुंचते-पहुंचते बेकार हो जाते हैं. इस टनल की मदद से किसान की सब्जी, फसल दिल्ली तक आराम से पहुंच सकेगी.

7. चालीस साल हो गए अनेक निर्दोष लोगों ने जान गंवाई है. किसी का फायदा नहीं हुआ. अगर लहु-लुहान हुई तो मेरी कश्मीर घाटी हुई है.

8. मैं घाटी के नौजवानों से कहना चाहता हूं. ये आपके भाग्य को बेहतर दिशा में ले जाएगा. आपके पास चुनने के लिए दो रास्ते है- एक तरफ टूरिज्म तो दूसरा टेररिज्म. हमने हमारी मां का लाल खोया है.

9. आज हिंदुस्तान में प्रति व्यक्ति आय तेज गति से बढ़ाने के लिए कोई राज्य है तो उस राज्य का नाम जम्मू-कश्मीर है. मुझे कई वर्षों तक संगठन के कार्य के लिए यहां आने-जाने रहने का मौका मिला है.

10. कश्मीरियत, इंसानियत, जम्हूरित के मूलमंत्र को लेकर हम कश्मीर को विकास की नई ऊंचाईयों पर लेके जाएंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi