S M L

Bogibeel Bridge: पीएम ने किया देश के सबसे लंबे रेलरोड पुल का उद्घाटन, अटल जी को श्रद्धांजलि

बोगीबील पुल असम के डिब्रूगढ़ जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के दक्षिण तट को अरूणाचल प्रदेश के सीमावर्ती धेमाजी जिले में सिलापाथर को जोड़ेगा

Updated On: Dec 25, 2018 02:54 PM IST

FP Staff

0
Bogibeel Bridge: पीएम ने किया देश के सबसे लंबे रेलरोड पुल का उद्घाटन, अटल जी को श्रद्धांजलि

असम में ब्रह्मपुत्र नदी पर बने भारत के सबसे लंबे रेलवे ब्रिज का मंगलवार को पीएम मोदी ने उद्घाटन किया. उन्होंने ये पुल देश के नाम समर्पित किया. ये पुल उनके राजनीतिक गुरु, भारत के पूर्व राष्ट्रपति अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि भी है, क्योंकि उन्होंने ही आज से 16 साल पहले 2002 में इस ब्रिज का शिलान्यास किया था और आज उनकी जयंती भी है.

हालांकि, इस पुल की योजना को सबसे पहले हरी झंडी 1997 में तत्कालीन प्रधानमंत्री एच. डी. देवगौड़ा ने दी.

बोगीबील पुल असम के डिब्रूगढ़ जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के दक्षिण तट को अरूणाचल प्रदेश के सीमावर्ती धेमाजी जिले में सिलापाथर को जोड़ेगा. यह पुल और रेल सेवा धेमाजी के लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण होगा क्योंकि मुख्य अस्पताल, मेडिकल कॉलेज और हवाई अड्डा डिब्रूगढ़ में हैं. इससे ईटानगर के लोगों को भी लाभ मिलेगा क्योंकि यह इलाका नाहरलगुन से केवल 15 किलोमीटर की दूरी पर है.

कुल 4.9 किलोमीटर लंबे इस पुल की मदद से असम के तिनसुकिया से अरूणाचल प्रदेश के नाहरलगुन कस्बे तक की रेलयात्रा में लगने वाले समय में 10 घंटे से अधिक की कमी आएगी. तिनसुकिया-नाहरलगुन इंटरसिटी एक्सप्रेस सप्ताह में पांच दिन चलेगी.

कुल 14 कोचों वाली यह चेयर कार रेलगाड़ी तिनसुकिया से दोपहर में रवाना होगी और नाहरलगुन से सुबह वापसी करेगी.

पूर्वोत्तर फ्रंटियर रेलवे के प्रवक्ता नितिन भट्टाचार्य ने बताया, ‘मौजूदा समय में इस दूरी को पार करने में 15 से 20 घंटे का समय की तुलना में अब इसमें महज साढ़े 5 घंटे का समय लगेगा. इससे पहले यात्रियों को रेल भी कई बार रेल बदलनी पड़ती थी.’

इसके अलावा इससे दिल्ली से डिब्रूगढ़ जाने वाली ट्रेन का समय भी 3 घंटे बचेगा. फिलहाल अभी इसमें 37 घंटे लगते हैं मगर इस मार्ग से 34 घंटे ही लगेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi