S M L

ओडिशा में पीएम मोदी: नई रेल लाइन का उद्घाटन किया, बोले-लोगों की परेशानी दूर करो, चुनाव तो आएंगे-जाएंगे

पीएम मोदी ने बालंगीर में नई रेल लाइन का उद्घाटन किया. उन्होंने कहा कि नागालवी नदी पर बना नया रेल पुल देश को समर्पित है.

Updated On: Jan 15, 2019 12:19 PM IST

FP Staff

0
ओडिशा में पीएम मोदी: नई रेल लाइन का उद्घाटन किया, बोले-लोगों की परेशानी दूर करो, चुनाव तो आएंगे-जाएंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ओडिशा के बालंगीर में रैली को संबोधित कर रहे हैं. इस दौरान उन्होंने बालंगीर में नई रेल लाइन का उद्घाटन किया. उन्होंने कहा कि नागालवी नदी पर बना नया रेल पुल देश को समर्पित है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि ये पावन पवित्र महीना सूर्य देव की उपासना का महीना है और ओडिशा तो साक्षात सूर्य देव की ही धरती है. कोणार्क से निकली रोशनी पूरे भारत को सदियों से रोशन करती रही है. इस पवित्र अवसर पर थोड़ी देर पहले ओडिशा के विकास से जुड़ी 1500 करोड़ रुपए से अधिक की परियोजनाओं का लोकार्पण, शिलान्यास और उद्घाटन आज हुआ है.

प्रधानमंत्री ने रैली को संबोधित करते हुए कहा, भारत सांस्कृति रूप से दुनिया का सिरमौर है. एक महीने में ओडिशा में 20 हजार करोड़ की योजनाएं शुरू हुईं हैं. बीते साढ़े 4 साल में ओडिशा में रेलवे के विकास के लिए ही 20,000 करोड़ रुपए से अधिक का बजट आवंटित किया गया. ये पुरानी सरकार की तुलना में 5 गुना अधिक है.

पीएम ने कहा, ओडिशा के हर जिले में आस्था के ऐसे महत्वपूर्ण स्थल हैं जो हमारी सांस्कृतिक संपदा के प्रतीक हैं. दुनिया की सबसे पुरातन सभ्यताओं में से एक हमारी सभ्यता की पहचान हैं. हमारे पूर्वजों के कौशल के प्रमाण हैं. ओडिशा के ऐसे अनेक मंदिरों के नवीनीकरण और सौंदर्यीकरण का बीड़ा हमारी सरकार ने उठाया है.

उन्होंने कहा, भारत की पुरातन पहचान को आधुनिकता के संगम के साथ और प्रखर करने के लिए केंद्र सरकार संकल्पबद्ध है. राष्ट्र के गौरव को सर्वोपरि रखने की कटिबद्धता का ही परिणाम है कि भारत के मंदिरों सहित दूसरी जगहों से लूटी या चुराई गई, पुरानी मूर्तियों को भारत लाने का प्रयास लगातार चल रहा है. साथियों, इस संपदा का भान सिर्फ मोदी को हुआ, ऐसा नहीं है. पहले की सरकारों को भी इस गौरवशाली अतीत का पता था. तब भी इन स्थानों को संवारने की मांग उठती थी. अंतर सिर्फ संवेदना का था, समग्रता के साथ सोचने वालों की कमी का था.

विपक्ष पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, कुछ पार्टियां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के आयोजन के खिलाफ थीं. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस, जिसे पूरी दुनिया मनाती है उसका भी विरोध वो करते हैं. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का गौरव मोदी का नहीं है, ये तो हमारे गौरवशाली अतीत और हमारे ऋषियों और मनीषियों की सौंपी विरासत है, जिसको आज दुनिया मान रही है. उन्होंने सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा को लेकर भी सवाए उठाए. वो दल जिन्हें देश ने दशकों तक सरकार चलाने का अवसर दिया, भारत के गौरव को बढ़ाने का मौका दिया, उनके साथ ये आपराधिक भूल हमेशा-हमेशा चिपकी रहेगी. हैरानी की बात ये है कि उन्होंने आज भी इससे सबक नहीं लिया.

पीएम मोदी ने कहा, 'ओडिशा की सरकार को चाहिए कि आदिवासी हितों के लिए जो ये प्रावधान किया गया है. उसका भरपूर लाभ लोगों को दिलाए चुनाव का इंतजार न करो. लोगों की परेशानी दूर करो, चुनाव तो आएंगे जाएंगे. केंद्र की बीजेपी सरकार निरंतर इस बात की कोशिश कर रही है कि व्यवस्था से हर उस कमी को दूर किया जाए, जो गरीबों का अधिकार छीनने में मददगार बनती हों.

पीएम ने कहा कि पिछले चार साल में हमने छह करोड़ फर्जी राशन कार्ड, गैस कनेक्शन और स्कॉलरशिप रद्द की. हमने इस लीकेज को ठीक कर करोड़ों रुपए बचाए. सभी राशन कार्ड्स को डिजिटाइज्ड किया और करीब 80 फीसद राशन कार्ड्स को आधार के साथ जोड़ा है.

प्रधानमंत्री ने कहा, मोदी के खिलाफ झूठे आरोप लगाए जा रहे है, साजिशें की जा रही है इतना ही नहीं मोदी को रास्ते से हटाने के लिए अब ये लोग इकट्ठे होने लगे है. सामान्य वर्ग के लोगों 10 प्रतिशत आरक्षण देने के मुद्दे पर उन्होंने कहा, संविधान में संशोधन कर सामान्य वर्ग के गरीबों को शैक्षणिक संस्थानों और सरकारी सेवाओं में 10 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की गई है. SC-ST और OBC को मिले संवैधानिक हक को 'छुए बिना, छेड़े बिना, छीने बिना' ये नया प्रावधान हमने किया है. इससे ओडिशा के सामान्य वर्ग के गरीब परिवारों को अपने सपने पूरा करने में मदद मिलने वाली है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi