S M L

ट्रिपल तलाक पर चर्चा: मुस्लिम बहनों को न्याय दिलाने की जिम्मेदारी हमारी है: स्मृति ईरानी

स्मृति ईरानी ने कहा कि तलाक-ए-बिद्दत एक क्रिमिनल एक्ट है. प्रधानमंत्री का विशेष अभिनंदन करती हूं, क्योंकि आपने राजनीति के मकसद से इसकी शुरुआत नहीं की

Updated On: Dec 27, 2018 05:45 PM IST

FP Staff

0
ट्रिपल तलाक पर चर्चा: मुस्लिम बहनों को न्याय दिलाने की जिम्मेदारी हमारी है: स्मृति ईरानी

तीन तलाक (तलाक-ए-बिद्दत) की प्रथा पर रोक लगाने के मकसद से लाए गए विधेयक पर गुरुवार को लोकसभा में चर्चा हुई. पिछले हफ्ते सदन में इस पर सहमति बनी थी कि 27 दिसंबर को इस पर चर्चा होगी.

इस दौरान केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने बोलते हुए कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि जब इनके पास मौका था तो जो महिलाएं प्रताड़ित की जा रही थीं तो ये लोग उनके पक्ष में क्यों नहीं खड़े हुए? 477 बहनें ऐसी हैं जो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी ट्रिपल तलाक की शिकार हुई हैं. यदि किसी बहन के साथ ऐसा हो तो हमारी जिम्मेदारी है उसे न्याय दिलाना. इस देश ने वो मंजर भी देखा जब ये कहा गया कि अगर दहेज लिया या दिया जाता है तो इसमें सरकार का क्या काम, लेकिन वो खत्म हुआ. तो ये बताया जाए कि ट्रिपल तलाक क्यों नहीं खत्म होना चाहिए.

आगे बोलते हुए ईरानी ने कहा कि तलाक-ए-बिद्दत एक क्रिमिनल एक्ट है. प्रधानमंत्री का विशेष अभिनंदन करती हूं, क्योंकि आपने राजनीति के मकसद से इसकी शुरुआत नहीं की. इंसाफ को अब तक देर हुई है, लेकिन अब वक्त खत्म हो गया है.

मुस्लिम समाज में एक बार में तीन तलाक (तलाक-ए-बिद्दत) को रोकने के मकसद से लोकसभा में लाए गए ‘मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक-2018’ के कुछ प्रावधानों का विरोध करते हुए कांग्रेस ने इसे संयुक्त प्रवर समिति में भेजने की मांग की तो सत्तारूढ़ बीजेपी ने इसे मुस्लिम महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए उठाया गया ऐतिहासिक कदम करार दिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi