S M L

पाक के पास भारतीय युवकों को तबाह करने की योजना है: अमरिंदर सिंह

महाराष्ट्र पुलिस ने 28 अगस्त को वामपंथी कार्यकर्ताओं के घरों पर छापेमारी की थी और माओवादियों से संदिग्ध संपर्कों के मामले में पांच कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया था

Updated On: Oct 06, 2018 07:00 PM IST

Bhasha

0
पाक के पास भारतीय युवकों को तबाह करने की योजना है: अमरिंदर सिंह

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शनिवार को कहा कि पाकिस्तान भारत के युवाओं को तबाह करने की कोशिश कर रहा है. उन्होंने आरोप लगाया कि पड़ोसी देश राज्य में मादक पदार्थों को भेज रहा है ताकि भारतीय सेना में उनकी भर्ती को कम किया जा सके.

16वें हिन्दुस्तान टाइम्स लीडरशिप समिट को राज्यों में ज्वलंत मुद्दों पर सिंह ने कर्नाटक और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों के संग संबोधित किया.

सिंह ने कहा, 'हमारे यहां मादक पदार्थ आ रहे हैं जिनमें हालिया वर्षों में बढ़ोतरी हुई है. यह एक अहम बिंदु है और इस पर कार्रवाई के लिए हमने बहुत मेहनत की है. पाकिस्तान के पास हमारे युवाओं को तबाह करने के लिए लंबे वक्त की योजना है. वे सीमावर्ती क्षेत्रों में युवकों को तबाह करने की कोशिश कर रहे है.'

उन्होंने कहा कि अगर भारत के युवा फिट नहीं होंगे तो इसका असर सेना में भर्ती पर पड़ेगा.

पंजाब के मुख्यमंत्री ने हाल में गुजरात के मांडवी बंदरगाह और जम्मू कश्मीर के उरी में सैकड़ों किलोग्राम हेरोइन को जब्त किए जाने का जिक्र किया. सिंह ने कहा कि दोनों मामलों में, इस नशीले पदार्थ को पंजाब पहुंचाना था.

उन्होंने कहा कि राज्य और केंद्रीय एजेंसियों ने कुछ बड़े तस्करों की पहचान की है और वे उनके पीछे हैं.

उधर, कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने अपनी गठबंधन की सरकार की स्थिरता को लेकर बात रखी. उन्होंने कहा कि उनके पास कांग्रेस का समर्थन है और उनकी सरकार कार्यकाल पूरा करेगी.

उन्होंने कहा, 'मैं इस सरकार को चलाऊंगा. यह स्थिर है. मैं यहां पांच साल के लिए हूं. कुछ वर्ग ऐसा पेश कर रहे हैं कि सरकार गिर जाएगी. कांग्रेस के मेरे मित्र और आला कमान पूरी तरह से मेरा सहयोग कर रहे हैं. कैबिनेट का विस्तार मेरे लिए बड़ा मुद्दा नहीं है.'

महाराष्ट्र के कोरेगांव भीमा गांव में पिछले साल हुई हिंसा पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देंवेद्र फड़नवीस ने कहा कि यह एक बड़ी साजिश है और राज्य सरकार संविधान के खिलाफ काम करने वालों के विरुद्ध कार्रवाई कर रही है.

उन्होंने कहा, 'जो भी व्यक्ति या संस्थान संविधान के खिलाफ कृत्य करती है तो मैं उनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए प्रतिबद्ध हूं. वे किसी भी वर्ग, जाति, धर्म, संस्थान का हो, या उनका झुकाव किसी भी ओर हो, लेकिन मैं उन्हें कुचल दूंगा.'

फड़नवीस ने कारोबारियों, राजनयिकों, राजनीतिक नेताओं और टिप्पणकारों से कहा, 'यह मेरा राजधर्म है. मैं यही कर रहा हूं. मैं अति दक्षिणपंथ या अति वामपंथ को नहीं मानता हूं.'

महाराष्ट्र पुलिस ने 28 अगस्त को वामपंथी कार्यकर्ताओं के घरों पर छापेमारी की थी और माओवादियों से संदिग्ध संपर्कों के मामले में पांच कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया था. इसके बाद उनकी सरकार राजनीतिक विवाद के केंद्र में थी.

फडणवीस ने कहा, 'कुछ लोग दो समुदायों को एक दूसरे के खिलाफ भड़काना चाहते हैं ताकि गृह युद्ध जैसे हालत बन जाएं... न सिर्फ भीमा-कोरेगांव की बात है बल्कि वे छत्तीसगढ़ और अन्य स्थानों के नक्सलियों के संपर्क में थे... वे कई चीजों की साजिश रच रहे थे.'

उन्होंने कहा, 'यह एक बड़ी साजिश है जिसे हम सामने लाए. छद्म उदारवादी साथ मिल गए और सुप्रीम कोर्ट चले गए. फिर भी अदालत का फैसला हमारे पक्ष में आया.'

तीनों मुख्यमंत्रियों ने ईंधन को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लाने पर चिंता व्यक्त की क्योंकि इससे राज्यों के राजस्व पर असर पड़ेगा.सिंह ने कहा, 'सिर्फ तीन क्षेत्र हैं जहां से सरकार को अपना राजस्व मिलता है. अगर ईंधन को इससे हटा दिया जाता है तो राज्य कहां से राजस्व हासिल करेंगे.'

फडणवीस ने कहा, 'महाराष्ट्र ईंधन को जीएसटी के दायरे में लाने का समर्थन करता है, लेकिन हमें अन्य विकल्पों पर विचार करने की जरूरत है. हमें बदलाव लाने हैं. इथेनॉल नीति से हम अगले पांच वर्ष में आयात 30 प्रतिशत तक कम कर सकते हैं.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi