S M L

बदल रहा है जमाना, अब बढ़ने लगी 'पत्नी पीड़ित' पतियों की तादाद

मध्यप्रदेश से चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है जहां औसतन हर माह 200 पतियों की पिटाई होने की खबर है

Bhasha Updated On: May 13, 2018 04:04 PM IST

0
बदल रहा है जमाना, अब बढ़ने लगी 'पत्नी पीड़ित' पतियों की तादाद

भारत को पुरुष प्रधान समाज माना जाता है. ऐसे समाज में महिलाओं के खिलाफ हिंसा और अपराध आम बात है. लाख जनजागरुकता के बावजूद महिलाएं अपने खिलाफ अपराध या हिंसा को जाहिर नहीं करतीं. थाना, कोर्ट-कचहरी की कौन कहे, परिवार के सदस्यों से भी छुपा लेती हैं. पर अब मामला वैसा नहीं है. आंकड़ों पर गौर करें तो पता चलेगी कि महिलाओं के हाथों पिटने वाले पुरुषों की भी संख्या कम नहीं है. दिलचस्प बात यह है कि पुरुष इस पिटाई की बाकायदा शिकायत भी करने लगे हैं.

मध्यप्रदेश से एक चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है जिसमें कहा गया है कि औसतन हर माह 200 पति अपनी पत्नियों के हाथों पिटते हैं, जिनकी शिकायत उन्होंने पुलिस में दर्ज कराई. मध्य प्रदेश ‘डायल 100’ के जनसंपर्क अधिकारी हेमंत कुमार शर्मा की मानें तो मध्यप्रदेश में औसतन हर माह 200 पतियों की अपने ही घर में पत्नियों से पिटाई हो जाती है.

प्रदेश में शहरों के लिहाज से देखा जाए तो इंदौर इस मामले में अव्वल है. यहां जनवरी से अप्रैल तक 72 पतियों ने अपनी पत्नियों से पिटाई होने की शिकायत पुलिस में दर्ज करवाई. जबकि भोपाल के 52 पतियों ने अपनी पत्नियों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है. इसी दौरान पूरे प्रदेश में 802 पतियों ने पत्नी प्रताड़ना की शिकायत दर्ज करवाई है.

अधिकारी ने बताया कि जनवरी 2018 से डायल 100 की टीम ने इस नंबर पर फोन करने वालों के लिए ‘बीटिंग हस्बैंड इवेंट’ की एक नई श्रेणी बनाई है. अब तक ये आंकड़े घरेलू हिंसा में शामिल किए जाते थे और इनका अलग से कहीं जिक्र नहीं होता था. यूं भी यह आम माना जाता रहा है कि घरेलू हिंसा केवल महिलाओं के साथ ही होती है, जबकि बीटिंग हस्बैंड इवेंट बनने के बाद तस्वीर का दूसरा रुख भी सामने आया.

शर्मा ने बताया कि डायल 100 ने जनवरी से प्रदेश में बीटिंग हस्बैंड इवेंट और बीटिंग वाइफ इवेंट की श्रेणी को घरेलू हिंसा से अलग कर दिया. नतीजा यह रहा कि जनवरी 2018 से अप्रैल तक चार माह में 802 पति घर में अपनी पिटाई की शिकायत दर्ज करवा चुके हैं.

उन्होंने बताया कि इसकी तुलना में पत्नियों की पिटाई के मामले हालांकि बहुत बड़ी संख्या में दर्ज हुए. इन चार महीनों में पत्नी से मारपीट की प्रदेश में 22,000 से अधिक शिकायतें दर्ज हुईं. इस श्रेणी में भी 2115 शिकायतों के साथ इंदौर सबसे ऊपर है. भोपाल 1546 शिकायतों के साथ दूसरे स्थान पर है. इसके बाद जबलपुर, ग्वालियर और छिंदवाड़ा की महिलाओं ने सबसे ज्यादा शिकायतें दर्ज करवाई हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi