S M L

प्रधानमंत्री आवास योजना में सस्ता लोन दिलाने के नाम पर 500 लोगों से ठगी

आरोपियों के बैंक खातों की जांच की गई तो पिछले दस महीने में 70 लाख रुपए के लेन देन की बात सामने आई है

Updated On: Oct 22, 2018 09:50 PM IST

FP Staff

0
प्रधानमंत्री आवास योजना में सस्ता लोन दिलाने के नाम पर 500 लोगों से ठगी
Loading...

छह राज्यों दिल्ली, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा के 500 से ज्यादा लोगों से करीब 70 लाख रुपए की धोखाधड़ी हुई है. प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सस्ता लोन दिलाने के नाम पर लोगों से ये ठगी की गई है. इस मामले में दिल्ली के डिफेंस कॉलोनी से तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है. आरोपियों की पहचान असरफ खान, तस्लीम अहमद और मुजम्मिल खान के रूप में हुई है.

आरोपियों के पास से पुलिस को दर्जनों डेबिट, क्रेडिट कार्ड, 24 मोबाइल सिम, दो कार, छह मोबाइल, लैपटॉप, कई फाइनेंस कंपनियों के रबर स्टाम्प और तीन लाख रुपए बरामद हुए हैं. इस गिरोह का सरगना असरफ खान गाजियाबाद के मशहूर कॉलेज से बीबीए कर चुका है. पुलिस उपायुक्त विजय कुमार ने बताया कि ठगी की शिकायत डिफेंस कॉलोनी थाने में मीरा देवी ने की थी.

पीड़िता का आरोप था कि सस्ती दरों पर लोन दिलाने के नाम पर उससे ठगी की गई है. आरोपियों ने पीड़िता को एक निजी फाइनेंस कंपनी का फर्जी लोन सर्टिफिकेट देकर उससे 22 हजार रुपए ठग लिए. मामले की जांच के दौरान आरोपियों के बैंक अकाउंट और मोबाइल नंबरों की पड़ताल की गई तभी पता चला कि मोबाइल नंबर और अकाउंट फर्जी पते पर लिए गए थे.

इसके बाद से पुलिस ने सारे बैंक अकाउंट पर नजर रखनी शुरू की. फिर पता चला कि आरोपियों ने कई बार विभिन्न एटीएम से रकम निकाली. पुलिस ने एटीएम में लगे सीसीटीवी कैमरों के जरिए आरोपियों की पहचान की. इसके बाद डिफेंस कॉलोनी के एटीएम से रुपए निकालने आए आरोपियों को पुलिस ने दबोच लिया.

फोन कराने के लिए महिलाओं का इस्तेमाल करते थे:

लाइव हिंदुस्तान के मुताबिक पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वो किसी भी कंपनी की एक सीरीज के मोबाइल नंबरों की पहचान कर लोगों को फोन करते थे. फोन करने के लिए कई महिला टेलीकॉलर को सैलरी देकर रखा गया था.

ये महिलाएं दिल्ली, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा के लोगों को फोन कर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सस्ती दरों पर लोन देने का झांसा दे फंसाती थीं. लोगों के झांसे में आने के बाद महिला टेलीकॉलर उनकी आरोपियों से बात कराती थीं. जब आरोपियों के बैंक खातों की जांच की गई तो पिछले दस महीने में 70 लाख रुपए के लेन देन की बात सामने आई है.

 

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi