S M L

काल के गाल में समा गया एक और तेंदुआ, पानी में तैरता मिला शव

पूरे भारत में सबसे ज्यादा नफरत और डर उस जानवर से होती है जो इंसानों का खून बहाता है. ऐसा वो इंसान को डराने के लिए नहीं, बल्कि खुद को जिंदा रखने की जद्दोजहद में करता है

Updated On: Jan 16, 2019 04:09 PM IST

FP Staff

0
काल के गाल में समा गया एक और तेंदुआ, पानी में तैरता मिला शव

ओडिशा के अंगुल जिले में रेंगाली डैम के तट पर एक तेंदुए का शव मिला है. तेंदुए का शव पानी में तैरते हुए पाया गया. उसकी मौत का कारण पता करने के लिए शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है.

पूरे देश से लगातार तेंदुओं के मारे जाने की खबरें सामने आती रही हैं. कभी तेंदुओं को गांव वालों ने इसलिए मार दिया क्योंकि वह उनके क्षेत्र में घुसने की कोशिश कर रहे थे तो कभी शिकार के शौक की वजह से तेंदुए मारे गए.

जिम कॉरबेट ने एक बार कहा था, 'पूरे भारत में सबसे ज्यादा नफरत और डर उस जानवर से होती है जो इंसानों का खून बहाता है. ऐसा वो इंसान को डराने के लिए नहीं, बल्कि खुद को जिंदा रखने की जद्दोजहद में करता है. उसका यह अपराध केवल इंसानों के बनाए कानून के खिलाफ है. प्रकृति के खिलाफ कतई नहीं.'

यह पहला मौका नहीं है जब किसी जंगली जानवर की शहरी इलाके में घुसने की वजह से मौत हुई हो, इससे पहले भी ऐसी घटनाएं अक्सर सुनने-देखने मिलती रहती हैं. ऐसे हालात में जंगली जीव मार दिए जाते हैं. यह जैव विविधता का नुकसान है. कई बार इंसान भी मारे जाते हैं. नुकसान दोनो तरफ से हो रहा है.

तेंदुओं के साथ हमारी भिड़ंत कोई नई बात नहीं है. हम इसके नतीजों से अक्सर मुंह फेर लेते हैं. इसमें नुकसान तेंदुओं का ही होता है. हमारे पास तो फिर भी रहने को जगह है. लेकिन उनकी जगह पर हमने कब्जा कर लिया है. अब वो कहां जाएंगे. तेंदुए जैसे जानवर को मारकर हम कोई बहादुरी का काम नहीं कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: खुद को पीएम कैंडिडेट की तरह प्रोजेक्ट कर मायावती ने मोदी के साथ राहुल को भी दी चुनौती

ये भी पढ़ें: राहुल की वजह से लिया था महागठबंधन से अलग होने का फैसला- नीतीश कुमार

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi