विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

‘रोहित वेमूला की मां साबित करें कि वह अनुसूचित जाति से हैं’

गुंटूर के जिला कलेक्टर ने रोहित वेमूला की मां को नोटिस जारी कर उनसे अपनी जाति साबित करने को कहा है

Bhasha Updated On: Feb 14, 2017 11:48 PM IST

0
‘रोहित वेमूला की मां साबित करें कि वह अनुसूचित जाति से हैं’

गुंटूर जिले के कलेक्टर ने रोहित वेमूला की मां को नोटिस जारी कर कहा है कि साबित करें कि वह अनुसूचित जाति से ताल्लुक रखती हैं. वेमूला हैदराबाद विश्वविद्यालय के शोध छात्र थे जिन्होंने जनवरी, 2016 में खुदकुशी कर ली थी.

भेजा गया नोटिस रोहित की जाति को लेकर चल रही जांच का हिस्सा है. उनकी जाति को लेकर चल रहे दावे..प्रतिदावे के बाद यह जांच राजस्व विभाग कर रहा है.

एक कथन के मुताबिक वह पिछड़ा वर्ग ‘वडेरा जाति से थे, उनके पिता भी इसी जाति से थे. जबकि दूसरे दावे के मुताबिक वह ‘माला’ जाति के थे क्योंकि उनकी मां राधिका इस जाति से थीं.

गुंटूर के जिला कलेक्टर कांतिलाल दांडे ने राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग को पिछले साल अप्रैल में रिपोर्ट सौंपकर बताया था कि रोहित अनुसूचित जाति के हैं.

शोध छात्र के परिवार के दावे के विरोध में याचिका के बाद फिर से जांच के आदेश दिए गए थे.

फिर से जांच के तहत राजस्व अधिकारी राधिका की मां और परिवार के दूसरे सदस्यों से बात कर चुके हैं. अधिकारी राधिका के पूर्व पति और रोहित के पिता मणि कुमार का बयान भी ले चुके हैं.

अब कलेक्टर ने राधिका को नोटिस जारी कर उनसे कहा है कि साबित करें कि वह अनुसूचित जाति समुदाय की हैं.

नोटिस में कहा गया है कि अगर वह अपने दावे को 15 दिन के अंदर साबित नहीं करती हैं तो रोहित को जारी अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र रद्द कर दिया जाएगा. तीन दिन पहले उन्हें नोटिस सौंप दिया गया था.

रोहित ने पिछले साल हैदराबाद में विश्वविद्यालय कैंपस के अंदर हॉस्टल में आत्महत्या कर ली थी. जिसके बाद देश भर में राजनीतिक आरोप और प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi