S M L

एनडीटीवी छापा: पत्रकारों ने कहा आपातकाल जैसी स्थिति, मिलकर लड़ना होगा

प्रणय रॉय ने मांग की कि उनके चैनल से संबंधित मुद्दों का समयबद्ध तरीके से समाधान निकाला जाए

Updated On: Jun 09, 2017 11:47 PM IST

Bhasha

0
एनडीटीवी छापा: पत्रकारों ने कहा आपातकाल जैसी स्थिति, मिलकर लड़ना होगा

कई वरिष्ठ पत्रकार आपातकाल जैसी स्थिति के विरोध में प्रदर्शन करने के लिए एक साथ आए. उन्होंने आरोप लगाया कि मीडिया का मुंह बंद करने के प्रयास हो रहे हैं. एनडीटीवी के संस्थापक प्रणय रॉय ने मांग की कि उनके चैनल से संबंधित मुद्दों का समयबद्ध तरीके से समाधान निकाला जाए.

यह प्रदर्शन प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में हुआ और इसमें कुलदीप नैय्यर, अरुण शौरी, एचके दुआ और एस निहाल सिंह जैसे वरिष्ठ पत्रकार शामिल हुए. कुछ दिन पहले ही सीबीआई ने एक निजी बैंक को कथित तौर पर चूना लगाने के मामले में रॉय के आवास समेत तीन अन्य स्थानों पर तलाशी ली थी.

एनडीटीवी ने कार्रवाई को कुछ पुराने गलत आरोपों के आधार पर बेवजह परेशान करना बताया.

अरुण शोरी ने भी मोदी सरकार पर साधा निशाना

पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ पत्रकार शौरी ने आरोप लगाया कि सरकार दो प्रमुख साधनों के जरिए मीडिया को नियंत्रित कर रही है, इसमें पहला है विज्ञापनों के जरिए रिश्वत की पेशकश करना और दूसरा है ‘‘अप्रत्यक्ष तौर पर डर फैलाना.

उन्होंने कहा, ‘अब वे तीसरा साधन इस्तेमाल कर रहे हैं जो प्रत्यक्ष रूप से दबाव बनाना है, उन्होंने एनडीटीवी के साथ जो किया वह इसी का उदाहरण है. मेरा मानना है कि आगामी महीनों में यह और बढ़ेगा.’

शौरी ने कहा, ‘मैं असहयोग का आह्वान करता हूं. सरकार की संवाददाता सम्मेलनों का बहिष्कार कीजिए, उससे इनकार कीजिए.’

प्रणय रॉय ने कहा आरोपों का पारदर्शिता से देंगे जवाब

जानेमाने न्यायविद फली एस नरीमन ने कहा कि आपराधिक मामले में मुकदमे से कोई नहीं बच सकता.

उन्होंने कहा, ‘लेकिन सीबीआई की छापेमारी का तरीका और हालात तथा इसके पीछे जो कथित तर्क दिया जा रहा है, इन्हें देखते हुए मुझे यह मानना पड़ रहा है कि यह सब निश्चित तौर पर प्रेस और मीडिया पर अनुचित हमला है.’ वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैय्यर ने पत्रकारों से आह्वान किया कि स्वतंत्र मीडिया के लिए इस जंग का वे मजबूती से सामना करें.

प्रणय रॉय (फोटो: पीटीआई)

प्रणय रॉय (फोटो: पीटीआई)

लोगों को संबोधित करते हुए रॉय ने कहा, ‘मैं आज यहां संकल्प लेता हूं कि हम सभी आरोपों का खुलकर और पारदर्शिता से जवाब देंगे. मैं सिर्फ इतना अनुरोध कर रहा हूं कि प्रक्रिया को नियत समय में पूरा किया जाए.’

उन्होंने आरोपों को मनगढंत करार दिया और कहा, ‘राधिका और मैं, एनडीटीवी हमने काले धन का एक रुपया भी नहीं छुआ, कभी किसी को रिश्वत नहीं दी.’ एनडीटीवी के संस्थापक ने कहा कि उनकी लड़ाई सीबीआई या ईडी के खिलाफ नहीं बल्कि नेताओं के खिलाफ है जो उनके मुताबिक इन संस्थानों को बर्बाद कर देना चाहते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi