S M L

नोएडा: पुलिस ने भेजा कंपनियों को नोटिस, खुले इलाकों में नमाज पढ़ते न दिखें कर्मचारी

सेक्टर 58 के ऑथोरिटी पार्क में पहले कुछ लोग शुक्रवार को नमाज पढ़ने जाते थे. लेकिन पिछले कुछ हफ्तों से शुक्रवार को इस पार्क में नमाज पढ़ने वालों की संख्या काफी तेजी से बढ़ी है

Updated On: Dec 25, 2018 01:12 PM IST

FP Staff

0
नोएडा: पुलिस ने भेजा कंपनियों को नोटिस, खुले इलाकों में नमाज पढ़ते न दिखें कर्मचारी

उत्तर प्रदेश की नोएडा पुलिस ने शहर के कई संस्थानो को नोटिस जारी किया है. इस नोटिस में आदेश दिया गया है कि कंपनिया अपने कर्मचारियों को खुले इलाकों में नमाज पढ़ने से रोकें. नोटिस के मुताबिक अगर कर्मचारी नियमों का उल्लंघन करते हुए खुले इलाकों में नमाज पढ़ते हुए पाए गए तो इसका जिम्मेदार कंपनियों को ठहराया जाएगा.

क्या कहा गया है नोटिस में ?

न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस की तरफ से जारी नोटिस में कहा गया है कि प्रशासन सेक्टर-58 के अथॉरिटी पार्क में शुक्रवार को नमाज समेत किसी भी धार्मिक गतिविधि करने की इजाजत नहीं देता है. देखा जा रहा है कि आपकी कंपनी के कर्मचारी पार्क में नमाज पढ़ते हैं. क्षेत्र के थाना प्रभारी ने नमाज नहीं पढ़ने के निर्देश दिए हैं. इस संबंध में सिटी मजिस्ट्रेट की तरफ से भी कोई अनुमति नहीं दी गई है. अगर कोई कर्मचारी पार्क में नमाज पढ़ता है और कंपनी ने उसे आदेश की जानकारी नहीं दी है तो कंपनी को जिम्मेदार ठहराया जाएगा.

इस मामले  में नोएडा के एसएसपी अजय पाल का कहना है कि कुछ लोगों ने सेक्टर 58 के पार्क में धार्मिक प्रार्थनाएं  करने के लिए अनुमति मांगी थी. सिटी मजिस्ट्रेट के अनुमति न देने के बावजूद लोग पार्क में इकट्ठा हुए. इस बारे में कंपनियों को जानकारी दे दी गई है. ये जानकारी किसी भी एक खास धर्म को लेकर नहीं है.

दरअसल पुलिस के मुताबिक, सेक्टर 58 के ऑथोरिटी पार्क में पहले कुछ लोग शुक्रवार को नमाज पढ़ने जाते थे. लेकिन पिछले कुछ हफ्तों से शुक्रवार को इस पार्क में नमाज पढ़ने वालों की संख्या काफी तेजी से बढ़ी है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यहां  पहले केवल 10-15 लोग ही नमाज पढ़ते थे, लेकिन दो हफ्ते पहले इस पार्क में करीब 500-600 लोगों ने नमाज पढ़ी. कई लोग इस चीज को लेकर आपत्ति भी जता चुके हैं, जिसके बाद ये निर्देश जारी किए गए. सेक्टर 58 के एसएचओ पंकज का कहना है कि ये निर्देश सभी के लिए है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मामले में कंपनियों ने पुलिस के अधिकारियों से बातचीत की मांग की है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi