S M L

पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती से सरकार का इनकार

राजकोषीय घाटे का मतलब होगा आय से अधिक व्यय का होना जबकि चालू खाते का घाटा देश में विदेशी मुद्रा प्रवाह और उसके बाहरी प्रवाह के बीच का अंतर होता है. चुनावी वर्ष में सरकार सार्वजनिक व्यय में कटौती का जोखिम नहीं उठा सकती है

Updated On: Sep 04, 2018 09:21 PM IST

FP Staff

0
पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती से सरकार का इनकार

सरकार ने उपभोक्ताओं को पेट्रोल, डीजल के बढ़ते दाम से राहत देने के लिये उत्पाद शुल्क में कटौती की संभावनाओं को खारिज कर दिया है. सरकार के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा है कि उसके सामने राजस्व वसूली में किसी भी तरह के कटौती की बहुत ही कम गुंजाइश है.

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपए में गिरावट के चलते आयात महंगा हो रहा है. सरकार को लगता है कि इससे चालू खाता घाटा लक्ष्य से ऊपर निकल सकता है ऐसे में वह पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क कम करके राजकोषीय गणित के साथ छेड़छाड़ नहीं करना चाहती. पेट्रोल और डीजल की कीमतें मंगलवार को नई ऊंचाई पर पहुंच गईं. वहीं रुपया, डॉलर के मुकाबले 71.54 के रिकार्ड निम्न स्तर तक गिर गया, जिसकी वजह से आयात महंगा हो गया.

दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 79.31 रुपये प्रति लीटर की रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई. वहीं डीजल के दाम 71.34 रुपये हो गए. इसे कम करने के लिए उत्पाद शुल्क में कटौती की मांग उठी है. इन दोनों ईंधन के दाम में करीब आधा हिस्सा, केंद्रीय और राज्य सरकारों द्वारा लिये जाने वाले कर का होता है.

पेट्रोल, डीजल के दाम में निरंतर वृद्धि पर टिप्पणी करते हुए, पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा: 'ऐसा नहीं है कि पेट्रोल, डीजल की कीमतों को कम नहीं किया जा सके क्योंकि ईधनों पर अत्यधिक करों की वजह से दाम ऊंचे हैं. ऐसे में अगर करों में कटौती की जाती है, तो कीमतें काफी कम हो जाएंगी'

वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि हम पहले से ही जानते हैं कि चालू खाते घाटे पर असर होगा. यह जानते हुए हम राजकोषीय घाटे के संबंध में कोई छेड़छाड़ नहीं कर सकते हैं, हमें इस मामले में समझदारी से फैसला करना होगा.

राजकोषीय घाटे का मतलब होगा आय से अधिक व्यय का होना जबकि चालू खाते का घाटा देश में विदेशी मुद्रा प्रवाह और उसके बाहरी प्रवाह के बीच का अंतर होता है. चुनावी वर्ष में सरकार सार्वजनिक व्यय में कटौती का जोखिम नहीं उठा सकती है. इसका विकास कार्यों पर असर होगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi