S M L

नवजात को मृत घोषित करने के मामले में मैक्स के डॉक्टरों को मिली क्लीन चीट

अस्पताल ने बच्चे के माता-पिता को बताया कि दोनों बच्चे मृत पैदा हुए हैं और उन्हें बच्चे एक पोलिथिन बैग में सौंप दिए गए लेकिन उनके अंतिम संस्कार से ठीक पहले परिवार ने पाया कि दो में से एक बच्चा जीवित है

Updated On: May 08, 2018 07:44 PM IST

FP Staff

0
नवजात को मृत घोषित करने के मामले में मैक्स के डॉक्टरों को मिली क्लीन चीट
Loading...

शालीमार बाग स्थित मैक्स अस्पताल द्वारा नवजात को मृत घोषित करने के मामले में दिल्ली मेडिकल काउंसिल ने अपनी जांच में डॉक्टरों को क्लीन चीट दे दी है.

बीते 30 नवंबर को मैक्स अस्पताल में 6 महीने की गर्भवती एक महिला ने जुड़वां बच्चों (एक लड़का और एक लड़की) को जन्म दिया था. जिनमें बच्ची मृत ही पैदा हुई थी.

अस्पताल ने बच्चे के माता-पिता को बताया कि दोनों बच्चे मृत पैदा हुए हैं और उन्हें बच्चे एक पोलिथिन बैग में सौंप दिए गए. लेकिन उनके अंतिम संस्कार से ठीक पहले परिवार ने पाया कि दो में से एक बच्चा जीवित है.

दिल्ली के शालीमार बाग स्थित मैक्स हॉस्पिटल ने बाद में जीवित बच्चे को नर्सरी में रखने के लिए 50 लाख रुपए मांगे. परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज की थी. बाद में मैक्स अस्पताल द्वारा 'मृत' घोषित किए गए नवजात ने भी दम तोड़ दिया था.

इस मामले को लेकर मैक्स अस्पताल की काफी आलोचना भी हुई थी. मैक्स ने लापरवाही बरतने के आरोपी दो डॉक्टरों को निकाल भी दिया था. लेकिन इस मामले में दिल्ली मेडिकल काउंसिल ने मेडिकल लापरवाही बरतने के आरोप से डॉक्टरों को क्लीन चीट दे दी है. काउंसिल ने कहा कि इसमें किसी तरह की चिकित्सीय लापरवाही नहीं हुई है लेकिन इसमें प्रक्रिया-संबंधी चूकें हुई हैं.

दिल्ली सरकार ने इस मामले में मैक्स अस्पताल के लाइसेंस को भी रद्द कर दिया था. राज्य सरकार ने अपने शुरुआती जांच में मैक्स अस्पताल को दोषी पाया था.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi