S M L

सिविल सेवा परीक्षा के लिए अधिकतम आयुसीमा में बदलाव नहीं: जितेन्द्र सिंह

कुछ दिनों पहले नीति आयोग ने केंद्र सरकार से सिफारिश की थी कि सिविल सेवा परीक्षा के लिए कैंडिडेट्स की अधिकतम आयु सीमा कम की जानी चाहिए

Updated On: Dec 25, 2018 11:52 AM IST

FP Staff

0
सिविल सेवा परीक्षा के लिए अधिकतम आयुसीमा में बदलाव नहीं: जितेन्द्र सिंह

सिविल सेवा परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों की अधिकतम आयु सीमा में कमी किए जाने की खबरों को लेकर केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने कहा है कि सरकार ने ऐसा कोई कदम नहीं उठाया है. उन्होंने कहा है कि इस बारे में जो अटकलें लगाई जा रही हैं, उस पर अब विराम लग जाना चाहिए. कुछ दिनों पहले नीति आयोग ने केंद्र सरकार से सिफारिश की थी कि सिविल सेवा परीक्षा के लिए कैंडिडेट्स की अधिकतम आयु सीमा कम की जानी चाहिए. आयोग ने सुझाव दिया था कि सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए आयु सीमा 30 साल से घटाकर 27 साल किया जाना चाहिए.

अब पीएमओ में राज्यमंत्री जितेन्द्र सिंह ने इस बारे में कहा है कि सरकार ने सिविल सेवा परीक्षाओं में शामिल होने की पात्रता के आयु मानदंड में बदलाव के कोई कदम नहीं उठाए हैं. पहले कहा जा रहा था कि आयुसीमा को घटाने को लेकर दिए सुझाव में नीति आयोग ने इसे साल 2022-23 तक लागू करने को कहा था. आयोग ने यह भी कहा था कि सिविल सेवा परीक्षाओं के लिए केवल एक ही परीक्षा आयोजित की जानी चाहिए.

‘नए भारत के लिए रणनीति@75’ दस्तावेज में आयोग ने सभी सिविल सेवाओं के लिए एक परीक्षा आयोजित करने पर जोर दिया था. दस्तावेज में कहा था कि केंद्र और राज्य स्तर पर फिलहाल 60 से अधिक अलग-अलग सिविल सेवाएं हैं. सेवाओं को युक्तिसंगत बनाने और तालमेल के जरिए इनकी संख्या कम किए जाने की जरूरत है. दस्तावेज के अनुसार, ‘केंद्रीय ‘टैलेंट पूल’ में नियुक्तियां की जानी चाहिए. उसके बाद उम्मीदवारों की क्षमता और रोजगार की जरूरत के आधार पर उनका आवंटन किया जाना चाहिए.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi