S M L

अर्बन Housewives को शादी नहीं, पैसा रखता है अपने बिजनेस से दूर

नीलसन द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण, 'ब्रिटानिया मैरी गोल्ड इंडियन वुमन एंटरप्रेन्योरशिप सर्वे रिपोर्ट' नामक एक अध्ययन में यह पता चला है कि कई महिलाएं, विशेष रूप से शहरी, विवाहित महिलाएं अपने खुद के बिजनेस पर काम करना चाहती थीं लेकिन पैसों की कमी के कारण ऐसा नहीं कर सकीं

Updated On: Jan 20, 2019 12:11 PM IST

FP Staff

0
अर्बन Housewives को शादी नहीं, पैसा रखता है अपने बिजनेस से दूर

पिछले पांच वर्षों में भारत में एक छोटे से मध्यम स्तर के स्टार्ट-अप्स के साथ एक अभूतपूर्व उद्यमशीलता का उछाल देखा गया जो एक दर्जन से अधिक दर पर हुआ. हालांकि, एक नए अध्ययन से पता चलता है कि सभी पुरुषों और महिलाओं को इस विकास क्षेत्र से समान रूप से लाभ नहीं हुआ है, जो कि बड़े पैमाने पर पुरुष प्रधान रहे हैं.

न्यूज़18 की खबर के अनुसार नीलसन के किए एक सर्वेक्षण 'ब्रिटानिया मैरी गोल्ड इंडियन वुमन एंटरप्रेन्योरशिप सर्वे रिपोर्ट' अध्ययन में यह पता चला है कि कई महिलाएं, विशेष रूप से शहरी, विवाहित महिलाएं अपने खुद के बिजनेस पर काम करना चाहती थीं लेकिन पैसों की कमी के कारण ऐसा नहीं कर सकीं.

युवा होने पर व्यवसाय या उद्यमशीलता शुरू करने के आकांक्षाएं थीं

अध्ययन 25 से 45 आयु वर्ग में दिल्ली, लखनऊ, मुंबई, पुणे, कोलकाता, आसनसोल, चेन्नई और कोयम्बटूर में 1,267 गैर-कामकाजी गृहिणियों के बीच आयोजित किया गया था. इन महिलाओं में से 48 फीसदी ने कहा कि उनके पास युवा होने पर व्यवसाय या उद्यमशीलता शुरू करने के सपने और आकांक्षाएं थीं. लगभग 69 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने स्वीकार किया कि वे अपना खुद का व्यवसाय चलाना चाहते हैं लेकिन वित्तीय बोझ के कारण नहीं कर सकते. अध्ययन में यह भी पाया गया कि साक्षात्कार में आई महिलाओं में से एक ने कहा कि उन्होंने अपना उद्यम शुरू करने की कोशिश की थी लेकिन इनमें से 25 प्रतिशत महिलाएं इसे बनाए रखने में असमर्थ थीं.

भारत में केवल 14 फीसदी व्यवसाय या उद्यमी महिलाओं के अधिकार में हैं

उद्यमशीलता की भूमिकाओं में महिलाओं की कमी छठी आर्थिक जनगणना में जारी आंकड़ों से स्पष्ट होती है, जिसमें कहा गया है कि भारत में केवल 14 प्रतिशत व्यवसाय या उद्यमी उद्यम महिलाओं के अधिकार में हैं. अमेरिका में लगभग 39 प्रतिशत महिलाओं के स्वामित्व चलाने वाले निजी व्यावसायिक प्रतिष्ठानों के विरोध के कारण, घर वापस आ गए हैं.अमेरिका में महिलाओं के स्वामित्व में 11.6 मिलियन से अधिक फर्में हैं, जो देश के राजस्व का 4.2 प्रतिशत प्रदान करती हैं और 8 प्रतिशत रोजगार भी प्रदान करती हैं. 2012 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार, 35.6% कनाडाई महिलाएं स्व-नियोजित थीं.

भारत में महिला कार्यबल का 81.29% हिस्सा बनाया था

यह तथ्य कि महिलाएं भारतीय उद्यमशीलता के क्षेत्र में पुरुषों से पीछे हैं, वैश्विक महिला उद्यमी नेता की रिपोर्ट 2015 के आंकड़ों से भी स्पष्ट है. अध्ययन में भारत को 31 देशों के बीच कार्यस्थल और व्यापार में महिलाओं की भागीदारी के मामले में 29वें स्थान पर रखा गया है, उसके बाद केवल पाकिस्तान और बांग्लादेश का स्थान है. हालांकि कहानी ग्रामीण भारत में थोड़ी अलग है जहां बड़ी संख्या में विवाहित महिलाएं काम करती हैं और श्रम शक्ति का हिस्सा हैं. न्यूज 18 की रिपोर्ट में पहले भी यह बताया जा चुका है कि वास्तव में, ग्रामीण महिलाओं ने भारत में महिला कार्यबल का 81.29% हिस्सा बनाया था.

महिला उद्यमियों के लिए स्त्री शक्ति पैकेज योजना शामिल है

केंद्र और राज्य सरकार के दोनों प्राधिकरणों ने आसान ऋण और सहायता प्राप्त करने के लिए महिला उद्यमियों की मदद करने के उद्देश्य से कई योजनाएं लागू की हैं. इनमें महिला उद्यमियों के लिए स्त्री शक्ति पैकेज, महिलाओं के लिए मुद्रा योजना और कई अन्य योजनाएं शामिल हैं. हालांकि, कार्यान्वयन, इस तरह की योजनाओं के लिए जागरूकता फैलाना और व्यवसाय को बनाए रखने के लिए पर्याप्त कमाई करना और बाद में ऋण चुकाना भारत में महिला उद्यमियों में विकास के लिए बाधाओं के रूप में कार्य कर सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi