S M L

अब पुस्तक के रूप में उपलब्ध होंगे नीतीश कुमार के संसद में दिए भाषण

उपमुख्यमंत्री सुशील ने कहा आमतौर पर यह धारणा थी कि विकास कार्यों से वोट नहीं मिलता है, मगर नीतीश कुमार ने यह साबित कर दिया कि विकास से ही वोट मिलता है

Updated On: Oct 23, 2018 10:02 PM IST

Bhasha

0
अब पुस्तक के रूप में उपलब्ध होंगे नीतीश कुमार के संसद में दिए भाषण
Loading...

मंगलवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के संसदीय भाषणों का संकलन पुस्तक के रूप में जारी किया गया. नीतीश कुमार बिहार में सत्ता संभालने से पहले लोकसभा सांसद रहे थे. बिहार विधान परिषद के उपभवन स्थित सभागार में आयोजित कार्यक्रम में ‘नीतीश कुमार: संसद में विकास की बातें’ पुस्तक का विमोचन किया गया.

इस दौरान कई गणमान्य लोग वहां मौजूद थे. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए हरिवंश ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह, नीतीश कुमार एक मजबूत नेता हैं. यह भी सराहनीय है कि बिहार के मुख्यमंत्री बनने से पहले महत्वपूर्ण केंद्रीय मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभालने के बावजूद उनकी ईमानदारी निष्कलंक है.

नीतीश कुमार की बराबरी 20-25 वर्षों में कोई नहीं कर पाएगा

उपमुख्यमंत्री सुशील ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह ही नीतीश कुमार में भी निर्णय लेन का साहस है. नीतीश कुमार में हिम्मत है कि वे पंचायत चुनावों में महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण देने और शराबबंदी जैसे असाधारण निर्णय ले सकें. मुख्यमंत्री के तौर पर उन्होंने बड़ी लकीर खींच दी है, जिसकी बराबरी शायद अगले 20-25 वर्षों में भी कोई नहीं कर पाए.

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने केवल मुख्यमंत्री के नाते ही उल्लेखनीय काम नहीं किया है, रेलमंत्री के तौर पर भी उन्होंने ‘बेंचमार्क’ स्थापित किया. आमतौर पर यह धारणा थी कि विकास कार्यों से वोट नहीं मिलता है, मगर नीतीश कुमार ने यह साबित कर दिया कि विकास से ही वोट मिलता है. नीतीश कुमार के कार्यकाल को इतिहास हमेशा याद रखेगा.

विधानसभा और विधान परिषद के भाषण भी छापे जा सकते हैं

सुशील ने कहा कि लोकसभा या विधानसभा में दिया गया भाषण अपने समय का दर्पण होता है. लोकार्पित पुस्तक में नीतीश कुमार के संसद में दिए गए भाषणों का संकलन हैं मगर पिछले 12-13 वर्षों में मुख्यमंत्री के तौर पर विधानसभा और विधान परिषद में उनके भाषणों का एक दूसरा संस्करण भी प्रकाशित होना चाहिए. नीतीश कुमार के साथ काम करने वाले लोग अपने अनुभवों के आधार पर इस तरह की पुस्तक का तीसरा संस्करण निकालेंगे.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi