विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

निठारी कांडः मोनिंदर सिंह और सुरेंद्र कोली को फांसी की सजा

नोएडा का निठारी कांड देश के सबसे ज्यादा जघन्यतम हत्याकांडों में से एक है

FP Staff Updated On: Dec 08, 2017 04:37 PM IST

0
निठारी कांडः मोनिंदर सिंह और सुरेंद्र कोली को फांसी की सजा

सीबीआई की विशेष अदालत ने नोएडा के बहुचर्चित निठारी कांड मामले में मोनिंदर सिंह और सुरेंद्र कोहली को दोषी ठहराते हुए फांसी की सजा सुनाई है. गुरुवार को सीबीआई कोर्ट ने दोनों को धारा 302, धारा 376 और धारा 364 के तहत दोषी ठहराया था. मामले में आखिरी सुनवाई बुधवार को हुई थी.

गाजियाबाद की डासना जेल में सजा काट रहे सुरेंद्र कोली और मोनिंदर सिंह को सीबीआई के विशेष न्यायाधीश पवन कुमार तिवारी की अदालत में पेश किया गया. यहीं पर दोनों को फांसी की सजा सुनाई गई.

निठारी कांड में मोनिंदर सिंह पंढेर और सुरेंद्र कोली पर 16 मुकदमे चल रहे हैं. 8 मामलों में विशेष अदालत से फैसला सुनाया जा चुका है. यह 9वां मामला है जिसमें दोनों को दोषी ठहराते हुए फांसी की सजा सुनाई गई है.

क्या है निठारी कांड मामला

नोएडा का निठारी कांड देश के सबसे ज्यादा जघन्यतम हत्याकांडों में से एक है. 2005-2006 में सामने आए इस हत्याकांड के खुलासे ने सबको हैरान कर दिया था. इस मामले का खुलासा तब हुआ जब नोएडा सेक्टर 31 के पास निठारी गांव में एक के बाद एक बच्चे गायब होने लगे. एक साल तक यह सिलसिला चलता रहा.

7 मई 2006 को 21 साल की एक और लड़की पायल जब गायब हुई तो पुलिस को अहम सुराग उसके मोबाइल से मिला. मामले में पहली बार मोनिंदर सिंह पंढेर का नाम सामने आया. लेकिन वो अपने को इस मामले में बेकसूर बताता रहा. जब मोबाइल रिकॉर्ड्स की जांच की गई तो सुरेंद्र कोली से तार जुड़ा. उसे अलमोड़ा से पुलिस ने गिरफ्तार किया. कोली के गिरफ्तारी के बाद इस मामले की एक के बाद एक परते खुलती गई. निठारी कांड के 6 मामलों में कोर्ट ने सुरेंद्र कोली को फांसी की सजा भी सुना चुकी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi