S M L

निपाह से दहशत, वायरस से मरे लोगों को दफनाने तक नहीं दे रहे लोग

अस्पतालों में जो कर्मचारी मरीजों की देखभाल कर रहे हैं, स्वस्थ लोगों ने उनसे दूरी बनाना शुरू कर दिया है

Updated On: May 25, 2018 11:46 AM IST

FP Staff

0
निपाह से दहशत, वायरस से मरे लोगों को दफनाने तक नहीं दे रहे लोग

केरल में निपाह वायरस का खतरा बढ़ता देख लोग दहशत में हैं. हालत ये है कि नर्सों और मेडिकल स्टाफ तक का लोगों ने बहिष्कार करना शुरू कर दिया है जो लोगों की भलाई के लिए काम कर रहे हैं. ऐसी रिपोर्ट है कि जो लोग इस वायरस की चपेट में आकर जान गंवा रहे हैं, उन्हें दफनाने तक का विरोध हो रहा है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट बताती है कि जब कोझीकोड स्थित परंबरा तालुका हॉस्पिटल की नर्सें एक स्थानीय बस में सवार हुईं तो यात्रियों ने विरोध करना शुरू कर दिया. हालत यह हो गई कि रिक्शा चालकों ने भी नर्सों को ले जाने से मना कर दिया. एक दूसरी घटना में गुरुवार को नाडाकावू पुलिस ने मवूर रोड शवदाह के दो कर्मचारियों के खिलाफ केस दर्ज किया जिन्होंने अशोकन नाम के एक मृतक का शव जलाने से मना कर दिया था.

अस्पतालों में जो कर्मचारी निपाह के मरीजों की देखभाल कर रहे हैं या जो लोग मरीजों के संपर्क में हैं, उनसे स्वस्थ लोगों ने दूरी बनाना शुरू कर दिया है. कोझीकोड के अस्पतालों में जिन पीड़ितों का इलाज चल रहा है उनका कहना है कि पहले की तुलना में मरीजों की आवक घट गई है.

कोझीकोड जिले की मेडिकल अफसर डॉ. जयश्री वासुदेवन ने जनजागरूकता फैलाने पर जोर देते हुए कहा, लोग खौफ में हैं और बुखार के कारण भी उनमें डर समा जाता है. समाजशास्त्रियों का मानना है कि लोगों में जो डर है उसे निकालना जरूरी है. एक समाजशास्त्री बेबी शिरीन ने कहा, जागरूकता फैला कर हम लोगों का ध्यान बीमारी से हटाना चाहते हैं. बीमारी के बारे में कई भ्रामक जानकारियां फैल रही हैं. लोग रोग से लड़ने की क्षमता बढ़ाएं इससे ज्यादा आसान है लोग खुद को बचा कर रखें.

दूसरी ओर, कर्नाटक और हिमाचल प्रदेश जैसे अन्य राज्यों में निपाह वायरस के फैलने के डर के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आम जनता और स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के लिए गुरुवार रात कुछ निर्देश जारी किया. इसमें यह बताया गया है कि इन्हें अति जोखिम वाले इलाकों में क्या एहतियाती कदम उठाने चाहिए और साथ ही यह जानकारी दी गई है कि यह बीमारी कैसे फैलती है और इसके क्या लक्षण होते हैं.

मंत्रालय ने आम जनता को ताड़ी, जमीन पर पड़े पहले से खाए हुए फलों का सेवन करने और इस्तेमाल में ना लाए जा रहे कुओं में ना जाने और केवल ताजा फल खाने की सलाह दी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi