S M L

हिज्बुल-मुजाहिदीन चीफ सलाहुद्दीन के बेटे के घर पर NIA का छापा

एनआईए ने बडगाम जिले के सोईबुग स्थित शाहिद के आवास की तलाशी ली और वहां से पांच मोबाइल फोन, एक लैपटॉप और कुछ अन्य कथित आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए.

Bhasha Updated On: Oct 26, 2017 01:21 PM IST

0
हिज्बुल-मुजाहिदीन चीफ सलाहुद्दीन के बेटे के घर पर NIA का छापा

राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने गुरुवार को हिज्बुल मुजाहिदीन चीफ सैयद सलाहुद्दीन के बेटे सैयद शाहिद यूसुफ के मध्य कश्मीर के बडगाम स्थित आवास पर छापा मारकर फोन, लैपटॉप और अन्य दस्तावेज जब्त किए.

एनआईए ने शाहिद को कश्मीर घाटी में विध्वंसक गतिविधियां चलाने के लिए कथित रूप से विदेशों से धन लेने के आरोप में 24 अक्टूबर को गिरफ्तार किया था. वो फिलहाल सात दिन के लिए एनआईए की हिरासत में है.

एनआईए के अधिकारियों ने बताया कि एजेंसी के अधिकारियों ने बडगाम जिले के सोईबुग स्थित शाहिद के आवास की तलाशी ली और वहां से पांच मोबाइल फोन, एक लैपटॉप और कुछ अन्य कथित आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए.

हिज्बुल-मुजाहिदीन के विदेशों सदस्यों का खुलासा

एनआईए के अनुसार, जम्मू-कश्मीर सरकार के कृषि विभाग में कार्यरत 42 साल के शाहिद ने आतंकवादी संगठनों के लिए धन जुटाने में शामिल हिज्बुल मुजाहिदीन के विदेशी सदस्यों के नाम बताए हैं.

जांच एजेंसी का दावा है कि पूछताछ के दौरान शाहिद ने ‘स्वीकार किया है कि उसने अपने पिता मोहम्मद यूसुफ शाह उर्फ सैयद सलाहुद्दीन के कहने पर घाटी में आतंकवादी गतिविधियों के वित्त पोषण के लिए हिज्बुल मुजाहिदीन के सदस्यों से धन लिया.’

एनआईए का कहना है कि शाहिद ने ‘हिज्बुल मुजाहिदीन से जुड़े विदेशों के अपने सहयोगियों का नाम भी बताया है, जो धन इकट्ठा करने और अन्य देशों से भारत में धन भेजने से जुड़े हुए हैं.’

एजेंसी का आरोप है कि शाहिद को यह धन अमेरिका की मनी ट्रांसफर कंपनी के जरिए ऐयाज अहमद भट से मिलता था. भट इस मामले का दूसरा आरोपी है और फिलहाल फरार होकर सऊदी अरब में है.

एनआईए का कहना है कि शाहिद ‘भट के विभिन्न संपर्कों में से एक है’ और मनी ट्रांसफर के कोड लेने के लिए टेलीफोन से संपर्क में रहता था.

मनी ट्रांसफर से हो रही है हवाला फंडिंग

एनआईए ने दावा किया कि इस तरह से अब तक यूसुफ आठ इंटरनेशनल मनी ट्रांसफर के जरिए करीब साढ़े चार लाख रुपए ले चुका है. एनआईए की ओर से अप्रैल, 2011 में दर्ज किया गया मामला दिल्ली के रास्ते हवाला के जरिए पाकिस्तान से जम्मू कश्मीर में रकम के स्थानांतरण से जुड़ा है. एजेंसी का दावा है कि इस रकम का उपयोग आतंकी वित्त पोषण और अलगाववादी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए किया गया.

अब तक एनआईए इस मामले में छह व्यक्तियों के खिलाफ दो आरोप पत्र दायर कर चुकी है. इनमें पाकिस्तान समर्थक अलगाववादी सैयद अली शाह गिलानी के निकट सहयोगी जी एम भट, मोहम्मद सिद्दीक गनई, गुलाम जीलानी लीलू और फारूक अहमद डग्गा शामिल हैं. यह चारों आरोपी न्यायिक हिरासत में हैं.

इनके अलावा एनआईए ने मोहम्मद मकबूल पंडित और ऐजाज अहमद भट का नाम भी आरोप पत्र में शामिल किया है लेकिन ये दोनों अभी फरार हैं. दोनों के खिलाफ इंटरपोल ने रेड कॉर्नर नोटिस जारी किए हैं. सैयद सलाहुद्दीन के नाम से कुख्यात और शाहिद यूसुफ के पिता मोहम्मद यूसुफ शाह को इस साल जून में अमेरिकी विदेश विभाग ने विशेष रूप से वैश्विक आतंकवादी घोषित किया है.

आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन का प्रमुख होने के अलावा सैयद सलाहुद्दीन यूनाइटेड जेहाद काउंसिल (यूजेसी) का अध्यक्ष भी है. यूजेसी कश्मीर में सक्रिय विभिन्न आतंकी संगठनों का एक समूह है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi