S M L

NIA की 'वॉन्टेड' लिस्ट में पाक राजनयिक का नाम, बड़े हमले की थी तैयारी

जांच एजेंसी ने इन अधिकारियों के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने के लिए इंटरपोल से आग्रह किया है

FP Staff Updated On: Apr 09, 2018 12:45 PM IST

0
NIA की 'वॉन्टेड' लिस्ट में पाक राजनयिक का नाम, बड़े हमले की थी तैयारी

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पहली बार एक पाकिस्तानी राजनयिक को अपनी 'वॉन्टेड' लिस्ट में शामिल किया है. उसका फोटो जारी करते हुए उसके बारे में सूचनाएं मांगी हैं.

इस राजनयिक का नाम आमिर जुबैर सिद्दीकी है जो कोलंबो के पाकिस्तानी उच्चायोग में वीजा काउंसेलर के पद पर तैनात था. लिस्ट में पाकिस्तान के दो अन्य अधिकारियों के भी नाम हैं जिन्होंने अमेरिकी और इजरायली वाणिज्य दूतावासों पर 26/11 जैसे हमले की साजिश रची. इन दोनों अधिकारियों पर 2014 में दक्षिण भारत के आर्मी और नेवी के ठिकानों पर हमले का षडयंत्र रचने का आरोप है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, एनआईए के राडार पर पाकिस्तान का एक और अधिकारी भी है जो श्रीलंका दूतावास में तैनात था. भारत के खिलाफ साजिश रचने वालों में यह चौथा अधिकारी है जिसके बारे में एनआईए ने जानकारी चाही है.

जांच एजेंसी ने इन अधिकारियों के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस (आरसीएन) जारी करने के लिए इंटरपोल से आग्रह किया है. ये सभी अधिकारी अब पाकिस्तान लौट चुके हैं. सिद्दीकी के खिलाफ एनआईए ने फरवरी में आरोप-पत्र दायर कर दिया है, जबकि बाकी के तीन अधिकारियों की फिलहाल पहचान नहीं हो पाई है.

सिद्दीकी के अलावा दो अन्य अधिकारी जिन्हें एनआईए ने 'वॉन्टेड' बनाया है, वे पाकिस्तानी खुफिया विभाग के अफसर हैं. इसमें एक का कोड नाम 'विनीत' और दूसरे का 'बॉस उर्फ शाह' है. ऐसा पहली बार हुआ है जब एनआईए ने पाकिस्तान के किसी राजनयिक को 'वॉन्टेड' घोषित किया है और इंटरपोल से गिरफ्तारी के लिए मदद मांगी है.

एनआईए के मुताबिक इन पाकिस्‍तानी अधिकारियों ने कोलंबो में 2009 से 2016 तक काम करते हुए चेन्‍नई और अन्‍य स्‍थानों के अहम ठिकानों पर हमले की साजिश रची. सिद्दीकी ने इसके लिए श्रीलंकाई नागरिक मुहम्मद साकिर हुसैन, अरुण सेल्वाराज, सिवबालन और तमीम अंसारी सहित कई अन्य लोगों को इसके लिए ठेका दिया था. इन सभी की गिरफ्तारी हो चुकी है.

एनआईए का दावा है कि सिद्दीकी और अन्य पाक अधिकारियों ने इन लोगों को ठेके पर लेने के बाद उन्हें रक्षा प्रतिष्ठानों की जानकारी हासिल करने का काम दिया. इसके अलावा एटमी प्रतिष्ठानों और सेना के ठिकानों से जुड़ी तस्वीरें खींचने को कहा.

जांच एजेंसी के मुताबिक, पाकिस्‍तानी अधिकारियों ने इन लोगों से भारतीय सेना के आला अधिकारियों के लैपटॉप चुराने और भारतीय बाजार में नकली नोट खपाने के लिए भी कहा. पाकिस्तानी अधिकारियों की साजिश चेन्‍नई में अमेरिकी वाणिज्‍य दूतावास, बेंगलुरू में इजरायली वाणिज्‍य दूतावास, विशाखापट्टनम में पूर्वी नौसेना कमान और कई बंदरगाहों पर हमले कराने की थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi