विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

प्रदूषण के चलते वैष्णो देवी में अब रोज सबको नहीं मिलेंगे दर्शन

लगतार बढ़ते प्रदूषण के स्तर को देखते हुए NGT लेकर आया नया फरमान

FP Staff Updated On: Nov 13, 2017 02:10 PM IST

0
प्रदूषण के चलते वैष्णो देवी में अब रोज सबको नहीं मिलेंगे दर्शन

सोमवार को एनजीटी ने वैष्णो देवी मंदिर में दर्शन करने वालों की संख्या पर लगाम लगा दी है. माता वैष्णो देवी की यात्रा को लेकर एनजीटी ने नए निर्देश पारित किए है. जिसमें केवल 50 हजार श्रद्धालु वैष्णों देवी के दर्शन कर सकेंगे.

निर्माण कार्यों पर लगा दी गई रोक

साथ ही मंदिर में हो रही सभी तरह के निर्माण कार्यों पर भी रोक लगा दी गई है.एनजीटी ने कहा है की अगर मां वैष्णों के दर्शन करने श्रद्धालुओं की संख्या 50 हजार से ज्यादा होती है तो उन्हें कटरा या अर्द्धकुमारी में रोक दिया जाएगा.

वहीं, अपने फैसले में एनजीटी ने जम्मू कटरा के आसपास किसी भी तरह के निर्माण कार्य पर रोक लगा दी है.इसके अलावा एनजीटी ने कटरा में गंदगी करने पर 2000 रुपये जुर्माना लगाने का भी आदेश दिया है.

श्राइन बोर्ड को दिए गए निर्देश

इस समय  एनजीटी  जम्मू कटरा में धार्मिक पर्यटन के प्रभाव पर नजर बनाए हुए है. इसके लिए श्राइन बोर्ड को ये निर्देश दिए गए हैं.बता दें कि 'माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड' मां वैष्णो देवी भवन और यात्रा से संबंधित सभी सुविधाओं की देख रेख करता है.

राज्य के राज्यपाल इसके प्रमुख होते हैं. यहां रोजाना लाखों की संख्या भक्त माता के दर्शन के लिए आते हैं.गौरतलब है कि जम्‍मू-कश्‍मीर के कटरा में वैष्‍णो देवी का मंदिर है. यात्रा कटरा में बाण गंगा से शुरू होती है. इसका पहला पड़ाव चरण पादुका, दूसरा पड़ाव अर्धकुआंरी गुफा, तीसरा पड़ाव मां वैष्णो देवी का भवन और चौथा व अंतिम पड़ाव भैरों घाटी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi