S M L

News18 Rising India में राजनाथ सिंह: पड़ोसियों से अच्छे रिश्ते चाहते हैं लेकिन पाकिस्तान है कि मानता ही नहीं

केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा, कश्मीर का हम स्थायी समाधान चाहते हैं. इसलिए हमने बातचीत के लिए दिनेश्वर शर्मा को स्पेशल रिप्रेजेंटेटिव तय किया है

Updated On: Mar 17, 2018 12:21 PM IST

FP Staff

0
News18 Rising India में राजनाथ सिंह: पड़ोसियों से अच्छे रिश्ते चाहते हैं लेकिन पाकिस्तान है कि मानता ही नहीं
Loading...

देश के सबसे बड़े मीडिया समूह नेटवर्क 18 के 'राइजिंग इंडिया समिट' के दूसरे दिन शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भारत उदय के सपने के सामने खड़ी चुनौतियों पर चर्चा की.

गृह मंत्री ने इसमें कश्मीर में जारी उग्रवाद और आतंकवाद को लेकर भी अपनी राय रखी. उससे निपटने के उपायों और कार्रवाई के बारे में विस्तार से बताया. घाटी में फैले जिहाद को लेकर उन्होंने कहा, कश्मीर के बच्चे हमारे बच्चे हैं. उनकी जिंदगी के साथ खिलवाड़ हो रहा है. उन्हें जिहाद का पाठ पढ़ाते हो तो मैं कहूंगा कि पहले तुम जिहाद करो तब हमारे बच्चों को यह शिक्षा दो.

गृहमंत्री सिंह ने आगे कहा, बड़ी-बड़ी कुर्सियों पर बैठकर जिहाद सिखाते हैं, लीडर बनते हैं. स्टोन पेल्टिंग में शामिल 9000 से ज्यादा बच्चों के नाम शामिल थे, मैंने कहा कि जो छोटे बच्चे हैं उन्होंने किसी के बहकावे में आकर स्टोन पेल्टिंग की है उन्हें बरी करें. उन्हें जेल में मत डालो.

कश्मीर की समस्या निपटाने के बारे में गृहमंत्री ने कहा, कश्मीर का हम स्थायी समाधान चाहते हैं. इसलिए हमनें बातचीत के लिए दिनेश्वर शर्मा को स्पेशल रिप्रेजेंटेटिव तय किया है. कश्मीर हमारा था, है और रहेगा. कोई ताकत उसे हमसे अलग नहीं कर सकती.

दोस्त बदल जाते हैं, पड़ोसी नहीं

पाकिस्तान को लेकर भी गृहमंत्री ने बेबाकी से अपनी राय रखी. उन्होंने कहा, पाकिस्तान हाफिज सईद को राजनीतिक संरक्षण दे रहा है, वह चुनाव लड़ेगा वहां की पार्लियामेंट में बैठेगा. पाकिस्तान हक्कानी नेटवर्क को पालता है. इन टेररिस्ट संगठनों ने कितने लोगों की हत्या की है. इतना कुछ के बावजूद पाकिस्तान है कि मानता ही नहीं.

साथ ही गृह मंत्री ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि भारत पड़ोसी देश के साथ अच्छे संबंध चाहता है. सिंह ने कहा, जहां तक इंटेंशन की बात है तो हम चाहते हैं कि पड़ोसियों से अपने रिश्ते बनाकर रखें. वाजपेयी कहा करते थे कि दोस्त बदल जाते हैं लेकिन पड़ोसी नहीं बदलते इसलिए अपने पड़ोसियों के साथ अच्छे संबंध बनाकर रखें.

नक्सलवाद में आई कमी

आतंकवाद के मुद्दे पर गृहमंत्री ने कहा, टेररिज्म के मुद्दे पर पहले के प्रधानमंत्रियों ने भी काम किए हैं लेकिन हमारे पीएम ने अंतरराष्ट्रीय देशों को इस समस्या के खिलाफ एकजुट करने में सफलता हासिल की है.

सिंह के मुताबिक, मैं यह नहीं कहना चाहूंगा कि जो भी कामयाबी हमें हासिल हुई है वह केवल हमारे प्रयासों से हुई है. पहले की सरकारों ने भी काम किए हैं. नक्सलिस्म जो हमारी आंतरिक सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा बना था उसपर हमें बड़ी कामयाबी हासिल हुई है. मैं यह नहीं कह रहा कि वारदातें नहीं हो रही हैं लेकिन नक्सल घटनाओं में काफी कमी आई है.

राइजिंग इंडिया समिट के दूसरे दिन का कार्यक्रम शनिवार 10 बजे गृहमंत्री राजनाथ सिंह के साथ बातचीत से शुरू हुआ. इसके अलावा फिल्मी सितारे कंगना रनौत, रणबीर सिंह भी अपनी मौजूदगी दर्ज कराएंगे. वहीं शाम को खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण भी समिट में हिस्सा लेंगी.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi