S M L

नए रॉ चीफ अनिल धस्माना का इतिहास डोभाल की तरह रोचक है

ऑपरेशन बंबई बाजार के दौरान अनिल धस्माना की जान लेने की कोशिश की गई थी.

Updated On: Dec 18, 2016 11:31 AM IST

FP Staff

0
नए रॉ चीफ अनिल धस्माना का इतिहास डोभाल की तरह रोचक है

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के बारे में आपने काफी कुछ सुना और पढ़ा होगा. लेकिन आज हम आपको रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) के नए चीफ अनिल धस्माना की एक अनसुनी कहानी बताने जा रहे हैं, जिससे अधिकांश लोग वाकिफ नहीं हैं.

अनिल धस्माना देश के अगले रॉ चीफ होंगे. 1981 बैच के आईपीएस अफसर धस्माना यूं तो मूल रूप से उत्तराखंड के रहने वाले हैं, लेकिन उन्हें करियर में पहली पहचान मिली बतौर इंदौर एसपी, जो संयोग से एसपी के पद पर उनकी पहली पोस्टिंग भी थी.

बहुत कम लोग जानते हैं कि एक दौर में मिनी मुंबई यानी मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में माफिया राज था. यहां के एक इलाके में फिल्मों की तरह माफियाराज चलता था, जिसके अपने उसूल और कायदे थे.

यह इलाका शहर के बीच में होने के बावजूद आम आदमी तो छोड़िए, यहां पुलिस भी कदम रखने से डरती थी. ऐसे दौर में इंदौर एसपी की कमान संभालने वाले अनिल धस्माना ने जिस तरह पुलिसिंग की, उसने इस शहर को हमेशा के लिए बदल दिया.

ऑपरेशन बंबई बाजार

'ऑपरेशन बंबई बाजार' इंदौर से आतंक और माफिया राज के खात्मे के लिए चलाए गए पुलिस अभियान को नाम दिया गया था. जिस्मफरोशी, सट्टे और जुए के अड्डे के लिए बदनाम बंबई बाजार, इंदौर के दामन पर काला दाग था.

धस्माना के नेतृत्व में करीब एक पखवाड़े तक चले अभियान के बाद बंबई बाजार से माफियाराज का अंत हुआ था. इस दौरान हिंसा भी हुई, जिसके चलते शहर कई दिन कर्फ्यू के साए में भी रहा, लेकिन धस्माना की धमक के आगे हर चुनौती छोटी साबित हुई.

'बंबई बाजार' से अनैतिक गतिविधियों का संचालन करने वाले हर व्यक्ति को खदेड़ दिया गया या फिर सलाखों के पीछे पहुंचा दिया गया. इस दौरान घरों के अंदर बने तहखाने, सड़क पर कब्जा कर किए गए निर्माण और सीढ़ियों को ध्वस्त किया गया.

'इस तरह बिकता है शहर में नशा और होती है जिस्मफरोशी'

'ऑपरेशन बंबई बाजार' के गवाह वरिष्ठ पत्रकार सतीश जोशी भी थे. उस दौर को याद कर जोशी बताते हैं कि कैसे उनकी खबर 'इस तरह बिकता है शहर में नशा और होती है जिस्मफरोशी' से ऑपरेशन बम्बई बाजार की नींव पड़ी थी.

खबर लिखने का असर भी हुआ, लेकिन उसका अनुभव उस दौर के युवा रिपोर्टर सतीश जोशी के लिए ठीक नहीं था.

खबर से बौखलाए लोगों ने जोशी पर हमला करने की कोशिश की, तो उन्होंने एसपी अनिल धस्माना और तत्कालीन कलेक्टर वीवीएस अय्यर के साथ ही सूबे के मुखिया सुंदरलाल पटवा की जानकारी में भी पूरा मामला लाया, जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई शुरू की थी.

हाल ही पुलिस सेवा से रिटायर हुए देशराज सिंह बताते हैं, अनिल धस्माना बेहद दबंग अफसर हैं. उन्हें जब अनैतिक गतिविधियों की जानकारी मिली तो कार्रवाई के लिए एसआई गजेंद्र सिंह सेंगर और सिपाही श्याम वीर को भेजा गया था.

उस दौर में बंबई बाजार में माफियाराज चलता था, ऐसे में पुलिस का वहां पहुंचना ही बड़ी बात थी. बंबई बाजार में समानांतर सत्ता चला रहे लोगों के लिए पुलिस का आना रास नहीं आया. उन्होंने न केवल दोनों पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया बल्कि पुलिस चौकी में भी गदर मचाया.

20 मिनट में सैनिक छावनी बना बंबई बाजार

एसपी धस्माना जैसे बेहद दबंग और ईमानदार अफसर ने फिर जो किया उसने हमेशा के लिए इंदौर का इतिहास बदल दिया. बताते हैं कि जिस बंबई बाजार में पुलिस कदम रखने से डरती थी, वहां 20 मिनट के भीतर हर घर पर पुलिस का सख्त पहरा था.

प्रशासन, पुलिस और नगर निगम में संयुक्त रूप से अवैध निर्माण, जुए और सट्टे के अड्डे के अलावा वेश्यालयों को ध्वस्त कर दिया.

अंगरक्षक ने शहीद होकर बचाई जान

कार्रवाई के दौरान एसपी धस्माना अपने अमले के साथ बेग परिवार के घर के बाहर पहुंचे थे. पुलिस की कार्रवाई से उनका पूरा साम्राज्य ध्वस्त हो रहा था. इस वजह से सबसे ज्यादा नाराजगी एसपी को लेकर थी.

बताते हैं कि ऑपरेशन बंबई बाजार के दौरान अनिल धस्माना की जान लेने की कोशिश की गई थी. बेग परिवार के घर में सर्चिंग अभियान के वक्त छत से मसाला कूटने की सिल्ली उन्हें निशाना बनाकर फेंकी गयी थी.

AnilDhasmana

एसपी का ध्यान नहीं था, लेकिन सतर्क अंगरक्षक छेदीलाल दुबे ने धक्का देकर उनकी जान बचाई थी, दुर्भाग्य से सिल्ली सिर पर गिरने से छेदीलाल शहीद हो गए.

सतीश जोशी बताते है कि एसपी के लिए ये बेहद मुश्किल घड़ी थी, लेकिन उन्होंने भावनाओं को अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया. वो बोले कुछ नहीं लेकिन अगले एक पखवाड़े में उन्होंने माफिया का नेटवर्क पूरी तरह से खत्म कर दिया. इंदौर में आज भी धस्माना के कार्यकाल की मिसाल दी जाती है.

पिकनिक स्पॉट बना बंबई बाजार

शहर में एक दौर ऐसा भी था, जब बंबई बाजार जाना बड़ी बुरी बात मानी जाती थी. ऐसे में ऑपरेशन बंबई बाजार ने इस इलाके की तस्वीर बदल गई, तो कई सप्ताह तक मेले जैसा माहौल रहा.

उस दौर को याद करते हुए जोशी बताते हैं कि महिलाएं भी बड़ी संख्या में यहां आकर बंबई बाजार की मायावी दुनिया को देखना चाहती थी.

इंदौर एसपी रहने के कुछ समय बाद अनिल धस्माना केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर चले गए, जिसके बाद उन्होंने मुड़कर पीछे नहीं देखा.

(साभार: प्रदेश18 से मनोज खाण्डेकर की रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi