विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

तमिलनाडु में फैलता जा रहा है नीट विरोधी आंदोलन

अनिता को 12वीं की परीक्षा में कई विषयों में सौ में सौ नंबर मिले थे लेकिन नीट में कम नंबर आने से उसे मेडिकल में दाखिला नहीं मिला

Bhasha Updated On: Sep 05, 2017 07:20 PM IST

0
तमिलनाडु में फैलता जा रहा है नीट विरोधी आंदोलन

तमिलनाडु में छात्रों और युवा संगठनों के राष्ट्रीय योग्यता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) विरोधी प्रदर्शनों के बीच एआईएडीएमके के उपमहासचिव टीटीवी दिनाकरण ने आज ‘सामाजिक न्याय की रक्षा’ के मामले में आंदोलन की घोषणा की.

उन्होंने कहा कि एआईएडीएमके (अम्मा) की छात्र इकाई चेन्नई में नौ सितम्बर को विरोध प्रदर्शन करेगी. उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं, छात्रों, अभिभावकों और अन्य लोगों से बड़ी संख्या में इसमे शामिल होने की गुज़ारिश की.

दिनाकरण ने एक बयान में कहा कि राज्य सरकार की ‘मिलीभगत’ से केन्द्र छात्रों पर नीट लागू कर रही है जिसके चलते मेडिकल कॉलेजों में दाखिला लेने का छात्रों का सपना प्रभावित हुआ है.

सत्तारूढ़ पार्टी के हाशिए पर डाले गए दिनाकरण 17 वर्षीय अनिता की आत्महत्या का मुद्दा उठाते हुए कहा कि ग्रामीण इलाकों में गरीबों के अधिकारों का हनन करने वाली प्रवेश परीक्षा को खत्म किया जाना चाहिए.

दिनाकरण ने दिवंगत जयललिता के परीक्षा के विरोध किए जाने का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘ग्रामीण इलाकों में गरीबों को उनके अधिकारों से वंचित करने वाली नीट परीक्षा से मेडिकल कॉलजों में दाखिला लेने के गरीब छात्रों के सपने प्रभावित हुए है. इसे खत्म किया जाना चाहिए. अम्मा इस संबंध में दृढ़ संकल्प थी.’’

उन्होंने कहा ‘‘अम्मा के जाने के बाद से हम देख रहे है कि राज्य के हर अधिकार से समझौता किया गया और यह जारी नहीं रहना चाहिए. काफी संघर्षों के बाद मिले तमिलों के सामाजिक न्याय को बरकरार रखा जाना चाहिए.’’

दिनाकरण ने कहा कि पूर्व में नीट के विरोध को लेकर उच्चतम न्यायालय गई अनिता को कक्षा 12 की परीक्षा में कई विषयों में सौ में सौ नंबर मिले थे लेकिन नीट में कम नंबर आने के बाद उसे मेडिकल कोर्स में दाखिला लेने का मौका नहीं मिला. उन्होंने कहा कि उसकी मौत से पूरे राज्य को नुकसान उठाना पड़ा है.

DALIT GIRL SUICIDE AFTER NEET

इस बीच छात्रों और तमिल समर्थित संगठनों का राज्य के विभिन्न हिस्सों में नीट विरोधी प्रदर्शन जारी है. पुलिस ने बताया कि कुछ छात्र संगठनों के सदस्यों को यहां मध्य रेलवे स्टेशन पर धरना देने का प्रयास करने के लिए गिरफ्तार किया गया है.

चेन्नई, कोयम्बटूर, कुड्डालूर, नगापट्टिनम और तिरूचिरापल्ली और बाकी जगहों पर छात्रों और छात्र संगठनों ने आंदोलन किए और अपनी कक्षाओं का बहिष्कार किया.

अनिता के लिए न्याय की मांग को लेकर छात्रों ने केन्द्र और राज्य सरकार के खिलाफ नारे लगाए और नीट को खत्म किए जाने की मांग की. अनिता की मौत के तुरन्त बाद तमिलनाडु में प्रदर्शन शुरू हो गया था. अनिता ने एक सितम्बर को अरियालुर जिले में अपने घर में कथित रूप से फांसी लगा ली थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi