S M L

यूपीए की तुलना में एनडीए के कार्यकाल में ज़्यादा नेशनल हाइवे बने

केंद्रीय परिवहन मंत्री नीतिन गडकरी ने प्रतिदिन 45 किलोमीटर तक हाइवेज़ बनाने का लक्ष्य तय किया है

FP Staff Updated On: Jun 13, 2018 06:54 PM IST

0
यूपीए की तुलना में एनडीए के कार्यकाल में ज़्यादा नेशनल हाइवे बने

रेंद्र मोदी सरकार ने यूपीए सरकार की तुलना में 73% अधिक नेशनल हाइवे का निर्माण करवाया है. फाइनेंशियल टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अपने चार साल (2014-2017)के कार्यकाल में एनडीए ने जहां 28,531 किलोमीटर तक की नेशनल हाइवे बनवाई हैं. वहीं यूपीए अपने कार्यकाल के चार सालों (2010-2013) में केवल 16,505 किलोमीटर तक ही हाइवे बनवा पाई थी.

सड़क और हाइवे निर्माण कराना बीजेपी के मुख्य लक्ष्यों में से एक रहा है. साल 2017-18 में सबसे अधिक 9,829 किलोमीटर हाइवे का निर्माण हुआ. आंकड़ों के मुताबिक, अगर एनडीए और यूपीए सरकार के हाइवे निर्माण की बात करें तो जहां नरेंद्र मोदी सरकार ने साल 2016-17, 2015-16 और 2014-15 के दौरान 8,231, 6,061 और 4,410 किलोमीटर की हाइवे बनवाए. वहीं यूपीए सरकार ने 2012-13,2011-12 और 2010-11 में 5,732 , 2,013 और 4,500 किलोमीटर तक की हाइवे का निर्माण करवाया.

2018-19 के बजट सत्र में केंद्रीय परिवहन मंत्री नीतिन गडकरी ने प्रतिदिन 45 किलोमीटर तक हाइवे बनाने का लक्ष्य तय किया है. इस पूरे एक साल में 16,418 किलोमीटर के हाइवे निर्माण का टारगेट है. जिसकी ज़िम्मेदारी परिवहन एवं राज्यमार्ग मंत्रालय, नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया और नेशनल हाइवेज़ इंफ्रस्ट्रकचर डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन (NHIDCL) को दी गई है. इसके अलावा मोदी सरकार ने इन चार सालों में ऐसे कई कदम उठाए जिससे की हाइवे निर्माण के दौरान होने वाली समस्याओं को दूर किया जा सका है.

हांलाकि 2016 के आम बजट के बाद सरकार ने कहा था कि देश में रोजाना 30 किलोमीटर नेशनल हाईवे बनाए जाएंगे. लेकिन मंत्रालय द्वारा जारी की गई रिपोर्ट कार्ड के अनुसार यह आंकड़ा महज 16 किलोमीटर तक का रह गया . 1 अप्रैल 2016 से 30 नवंबर 2016 तक सिर्फ 4028 किलोमीटर नेशनल हाईवे बन पाई है.जबकि10 हजार किलोमीटर तक नेशनल हाईवे बनाने का लक्ष्य तय किया गया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi