S M L

फिर विवादों में घिरे सिद्धू, सिख आतंकवादी गोपाल सिंह चावला के साथ खिंचाई फोटो

चावला खलिस्तान समर्थक लीडर है. हाल ही में अमृतसर में निरंकारी भवन पर हुए हमले उसकी भूमिका संदिग्ध है

Updated On: Nov 29, 2018 10:52 AM IST

FP Staff

0
फिर विवादों में घिरे सिद्धू, सिख आतंकवादी गोपाल सिंह चावला के साथ खिंचाई फोटो

पंजाब के कांग्रेस मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू अपने दूसरे पाकिस्तान के दौरे पर भी विवादों में घिर गए हैं. इस बार उन्होंने खलिस्तान समर्थक आतंकवादी गोपाल सिंह चावला के साथ फोटो खिंचाई है. ये फोटो खुद चावला ने सोशल मीडिया पर शेयर किया है.

चावला खलिस्तान समर्थक लीडर है. हाल ही में अमृतसर में निरंकारी भवन पर हुए हमले उसकी भूमिका संदिग्ध है. चावला को पाकिस्तान की तरफ से करतारपुर कॉरिडोर की आधारशिला रखने के कार्यक्रम में बुलाया गया था. इसके अलावा इस सिविलियन कार्यक्रम में पाकिस्तानी सेना के जनरल कमर जावेद बाजवा को भी बुलाया गया था, जो भारत के लिए काफी हैरानी भरा था. जनरल बाजवा को भी चावला से हाथ मिलाते हुए देखा गया था.

भारत की ओर से इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर और हरदीप सिंह पुरी गए थे. सिद्धू इमरान खान के बुलावे पर पाकिस्तान गए थे.

इस फोटो पर उठ रहे विवाद पर गुरुवार को चावला ने न्यूज18 से फोन पर बातचीत में कहा कि 'इसमें इतनी बड़ी बात क्या है? मुझे नहीं पता कि मुझे इन सबमें क्यों घसीटा जा रहा है. ऐसे लिंक क्यों बनाए जा रहे हैं. मेरा इरादा किसी तरह का आतंक पैदा करने का नहीं है.'

चावला पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति का महासचिव है. उसे खलिस्तान के समर्थन में आवाज उठाने के लिए जाना जाता है. अमृतसर में निरंकारी भवन पर हुए हमले की जांच में जांच एजेंसियों ने उसका नाम भी लिया था. अधिकारियों ने ये भी कहा था कि चावला आईएसआई और लश्कर-ए-तैयबा के चीफ हाफिज सईद के साथ मिलकर आतंकी हमलों की योजना बना रहा था. एजेंसी ने चावला और सईद के मुलाकात की एक फोटो भी मिलने का दावा किया था.

बैसाखी पर पाकिस्तान में गुरुद्वारों के सामने 'सिख रेफरेंडम 2020' के पोस्टर लगाए गए थे. इसमें चावला का नाम सामने आया था.

न्यूज18 के मुताबिक, पाकिस्तान के अधिकारी ने इस कार्यक्रम में चावला की मौजूदगी पर कहा कि गोपाल सिंह चावला पीएसजीपीसी के बड़े नेता है और सिख समुदाय से जुड़े हर कार्यक्रम में उन्हें बुलाया जाता है.

आईएसपीआर डीजी मेजर जनरल आसिफ गफूर ने ट्वीट कर लिखा कि भारतीय मीडिया चावला की उपस्थिति को बहुत संकुचित नजरों से देख रही है. आर्मी चीफ चावला से वैसे ही मिले थे, जैसे वो कार्यक्रम में हर मेहमान से मिल रहे थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi