S M L

डिजिटल इंडिया के लाभार्थियों को पीएम मोदी का संबोधन- तकनीक से रुका भ्रष्टाचार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी सरकार के चार साल पूरा होने के बाद अब अपनी बड़ी योजनाओं को लेकर जनता से रू-ब-रू हो रहे हैं

Updated On: Jun 15, 2018 01:43 PM IST

Amitesh Amitesh
विशेष संवाददाता, फ़र्स्टपोस्ट हिंदी

0
डिजिटल इंडिया के लाभार्थियों को पीएम मोदी का संबोधन- तकनीक से रुका भ्रष्टाचार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी डिजिटल इंडिया पर लगातार जोर देते रहे हैं. उनकी कोशिश रही है कि तकनीक से भ्रष्टाचार पर लगाम लगाया जाए. काफी हद तक इसमें सफलता भी मिली है. डिजिटल इंडिया के लाभार्थियों से नमो ऐप के माध्यम से बातचीत करते हुए मोदी ने कहा कि अब डिजिटल पेमेंट से बिचौलिओं की मिलीभगत खत्म हो गई है.

दरअसल, डिजिटल इंडिया के माध्यम से अब पेंशन से लेकर पेमेंट तक और सरकार की सारी योजनाओं के पैसे लाभार्थियों के बैंक एकाउंट में सीधे चले आते हैं. नमो ऐप पर बात करते हुए हरियाणा के एक लाभार्थी ने प्रधानमंत्री को बताया भी कि कैसे प्रधानमंत्री आवास योजना का पैसा सीधा उनके बैंक एकाउंट में आ गया है.

पेंशन और डिजिटल लाइब्रेरी का तुरंत लाभ

इस वक्त देश भर में तीन लाख कमॉन सर्विस सेंटर यानी सीएससी हैं, जिनके माध्यम से गांव-गांव तक लोग डिजिटल सेवा का लाभ ले रहे हैं. डिजिटल सेवा के माध्यम से इस वक्त सीएससी सेंटर पर जाकर गांव-गांव में लोग पेंशन भी ले रहे हैं. अब उन्हें दूर-दराज नहीं जाना पड़ता है.

दूसरी तरफ, गांव-गांव तक इंटरनेट पहुंचने के चलते अब दूर-दराज के गांवों में रहने वाले छात्र भी डिजिटल लाइब्रेरी तक पहुंच पा रहे हैं. ऐसा होने से छात्रों को भी घर बैठे प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी करने का मौका मिल जाता है.

नमो ऐप पर डिजिटल इंडिया के कारण देश भर में आ रहे बदलाव का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि अब किसानों को भी मौसम की जानकारी लेने के लिए या फिर मिट्टी की जानकारी लेने के लिए ज्यादा मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़ता है. उन्होंने देश भर में संचार क्रांति से होने वाले फायदे का जिक्र करते हुए कहा कि अब इनकम टैक्स भरने, बिजली या पानी का बिल भरने या फिर रेल टिकट के लिए घंटों लाइन में लगने की जरूरत नहीं पड़ती. अब तो सीधे डिजिटल सेवा के माध्यम से घर बैठे ही सारे काम निपटा लिए जाते हैं बल्कि, अब ये सारे काम तो उंगली भर की दूरी पर रह गए हैं.

इंटरनेट कोचिंग की सुविधा

आज पूरे देश में अलग-अलग क्षेत्र में गांवों में बीपीओ सेवा के माध्यम से युवाओं को रोजगार भी  मुहैया कराया जा रहा है. दूसरी तरफ, सीएससी के माध्यम से दूर-दराज के क्षेत्रों में टेलीमेडिसिन उपलब्ध कराई जा रही है. गौतमबुद्धनगर के जितेंद्र सोलंकी ने बताया कि वो घर बैठे डिजिटल सेवा से कोचिंग करा रहे हैं. इंटरनेट के माध्यम से उनके गांव के बच्चे कोचिंग सुविधा का लाभ ले रहे हैं.

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान बताया कि 2014 में सिर्फ दो मोबाइल फैक्टरी थी लेकिन, आज 120 मोबाइल फैक्ट्री हैं जिसके चलते 4.5 लाख लोगों को रोजगार मिला है.

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी सरकार के चार साल पूरा होने के बाद अब अपनी बड़ी योजनाओं को लेकर जनता से रू-ब-रू हो रहे हैं. मोदी की कोशिश उनकी सरकार के चार साल के कामकाज के दौरान हुए काम-काज से लोगों को अवगत कराना भी है. इसी कड़ी में डिजिटल इंडिया के जरिए फायदा उठाने वाले लोगों से उन्होंने बात की है. इसके पहले वो उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों से भी बात कर चुके हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi