S M L

एयर इंडिया में सिखों को 'हलाल' से बचाने के लिए परोसा जा रहा है 'मुस्लिम मील'

दरअसल मुस्लिम धर्म में झटका मीट खाने पर रोक है और सिख धर्म में हलाल मीट, एयरलाइन कंपनियां अलग-अलग तरह के खाने परोसती हैं ताकि किसी की धार्मिक भावनाएं आहत न हों

FP Staff Updated On: Jul 22, 2018 09:52 PM IST

0
एयर इंडिया में सिखों को 'हलाल' से बचाने के लिए परोसा जा रहा है 'मुस्लिम मील'

अपने सिख कस्टमर्स को हलाल मीट खाने से रोकने केलिए एयर इंडिया अपने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में 'मुस्लिम मील' परोस रहा है. दरअसल मुस्लिम धर्म में झटका मीट खाने पर रोक है और सिख धर्म में हलाल मीट. झटका मीट उस मीट को कहते हैं जिसमें जानवर के सिर को एक झटके में उसके शरीर से अलग कर दिया जाता है और हलाल मीट में जानवर के गले को थोड़ा सा काटा जाता है. वैसे हिंदू धर्म में हलाल और झटका मीट के आधार पर कोई पाबंदी नहीं है लेकिन वे बीफ से परहेज करते हैं.

मुस्लिम मील के अलावा एयर इंडिया सहित कई एयरलाइन कंपनियां हिंदू मील, जैन मील आदि भी परोसती हैं. मुस्लिम मील में पोर्क (सूअर का मांस) और शराब नहीं होता है, जबकि हिंदू मील में बीफ नहीं होता है. हाल ही में एमिरेट्स एयरलाइन ने हिंदू मील को हटाने का फैसला किया था. इसे लेकर एयरलाइन की आलोचना भी हुई थी.

भारत से विदेश जाने वाली कई इटंरनेशनल फ्लाइट्स में हिंदू मील की स्पेशल व्यवस्था रहती है. हालांकि इसके लिए फ्लाइट के 72 घंटे पहले तक आपको अपनी फूड प्राथमिकता की जानकारी एयरलाइंस को देनी होती है. वैसे फ्लाइट्स में हिंदू मील के साथ एक खास खाना जैन मील भी परोसा जाता है. इंटरनेशनल फ्लाइट्स में इतने अलग-अलग तरह की मील्स परोसी जाती हैं कि जानकर हैरत में पड़ जाएंगे.

जानिए क्या है हिंदू मील?

पहले बात हिंदू मील की जो अमीरात समेत एयरलिंगस, केएलएम, यूनाइटेड एयरलाइंस, यूएस एयरवेज जैसी कई एयरलाइंस में परोसा जाता है. आमतौर पर लंबी दूरी की इंटरनेशनल एयरलाइंस में हिंदू मील का मतलब है कि हिंदू समुदाय के ऐसे लोगों का खाना, जो ना सख्त शाकाहारी हों और न ही बीफ का सेवन करते हों. अलबत्ता ये मीट, फिश और अंडा खाते हों.

शाकाहारी भारतीयों के लिए और भी मील

एयरलाइंस में इसे एशियन वेजेटेरियन मील यानी एवीएमएल कहा जाता है. ये आमतौर पर उन यात्रियों के लिए होता है, जो भारतीय शाकाहारी हैं. इसमें सुगंध और मसालायुक्त व्यंजन होते हैं, जो विशुद्ध शाकाहारी होते हैं और भारतीय उपमहाद्वीप के टेस्ट के दृष्टि से तैयार होते हैं. इस मील में ताजे फल और डेयरी प्रोडक्ट्स होते हैं. इस मील में किसी तरह का नानवेज नहीं होता. इस में सूखे फल, फलियां, तोफू और अनाज होते हैं.

एयरलाइंस में वेगन मील का मतलब क्या होता है

इंटरनेशनल फ्लाइट्स में कई तरह के वेजेटेरियन मील्स परोसे जाते हैं. लेकिन वो अलग अलग तरह के होते हैं.

वेजेटेरियन मील (वीजीएमएल) - इसे वेगन के नाम भी जाना जाता है. इसमें अंडा तक नहीं होता और न ही डेयरी प्रोड्क्ट्स. इसमें एक या कई तरह के शाकाहारी डिश, सभी तरह के वेजिटेबल, फ्रेश फ्रूट्स होते हैं. इसमें किसी भी तरह का नानवेज, एनिमल प्रोडक्ट्स या बाई प्रोडक्ट्स नहीं होते.

वेजेटेरियन लेप्टो-ओवो मील (वीएलएमएल) - इस वेजेटेरियन मील में अंडा हो सकता है. डेयरी प्रोडक्ट्स, फ्रेश फ्रूट्स, दालें होती हैं. फिश और मीट नहीं होता

वेजेटेरियन ओरिएंटल मील (वीओएमएल)- इसमें वेजेटेरियन डिश को चाइनीज या ओरिएंटल स्टाइल में बनाया जाता है.

जैन मील क्या होता है

हां, बहुत सी इंटरनेशनल फ्लाइट्स जैन वेजेटेरियन मील भी परोसती हैं. ये जैन समुदाय के खाने की दृष्टि से पूरी तरह शाकाहारी होता है, इसे कुछ तय भारतीय मसालों के जरिए तैयार किया जाता है. इसमें ताजे फल, वो डंढलदार सब्जियां, जो जमीन के ऊपर पैदा होती हैं. इसमें एनिमल प्रोडक्ट्स और बाई प्रोडक्ट्स, सीफूड, डेयरी प्रोडक्ट्स, अंडा, ब्रोकोली और जड़दार सब्जियां मसलन-प्याज, मशरूम, अदरक, लहसुन, आलू, गाजर, चुकंदर, मूली और हल्दी नहीं होते.

कौसर मील के बारे में भी जानिए

ये खाना पूरी तरह यहूदी रीतिरिवाजों के अनुसार होता है. उन्हें पूरी तरह उसी अनुसार बनाया जाता है.

एयरलाइन में पहली बार खाना कब परोसा गया

वर्ष 1919 में हेंडले पेज ट्रांसपोर्ट नाम की एयरलाइन कंपनी ने लंदन-पेरिस रुट पर खाना परोसना शुरू किया. इसमें सैंडविच और फल दिए जाते थे.

एयरलाइन में कितने तरह का खाना परोसा जाता है

एयरलाइंस में बहुत तरह का खाना परोसा जाता है, जिसमें कांटिनेंटल, तुर्की, फ्रेंच, इतालवी, चाइनीज, कोरियन, जापानीज और इंडियन स्टाइल का खाना परोसा जाता है. साथ ही कुछ मेडिकल डाइट्स भी परोसे जाते हैं. मसलन-लो फाइबर, हाई फाइबर, लो फैट, डायबिटीक, पीनट फ्री, नॉन लेक्टोज, कम नमक, लो कैलोरी, लो प्रोटीन और ग्लूटेन फ्री मील्स शामिल रहते हैं. अब तक अमीरात एयरलाइंस में खाने का मेनू 26 तरह का था लेकिन अब इसमें कुछ कटौती की गई है.

(न्यूज18 से इनपुट के साथ)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi