S M L

मुंबई अस्पताल आग: अपनी जान जोखिम में डालकर डिलिवरी बॉय ने बचाई 10 जान

मुंबई के अस्पताल में लगी भयंकर आग के दौरान स्विगी के 20 वर्षीय एक्जीक्यूटिव (डिलिवरी बॉय ) ने इंसानियत की मिसाल पेश करते हुए अपनी जान जोखिम में डालकर 10 लोगों की जान बचाई

Updated On: Dec 19, 2018 04:40 PM IST

Bhasha

0
मुंबई अस्पताल आग: अपनी जान जोखिम में डालकर डिलिवरी बॉय ने बचाई 10 जान

मुंबई के अस्पताल में लगी भयंकर आग के दौरान स्विगी के 20 वर्षीय एक्जीक्यूटिव (डिलीवरी बॉय) ने इंसानियत की मिसाल पेश करते हुए अपनी जान जोखिम में डालकर 10 लोगों की जान बचाई.

स्विगी कर्मचारी सिद्धू हुमानाबाड़े खाना पहुंचाने जा रहा था, जब वहां से गुजरते हुए उसने ESIC कामगार अस्पताल के ऊपरी तलों से धुआं निकलते हुए देखा. अपनी मोटरसाइकिल खड़ी कर उसने दमकल कर्मियों से पूछा कि क्या वह लोगों को बचाने में उनकी मदद कर सकता है. अधिकारियों की अनुमति मिलने पर वह फायर ब्रिगेड कर्मियों की सीढ़ियों की मदद से इमारत के चौथे तल पर पहुंचा और वहां फंसे कुछ मरीजों और अस्पताल आने वाले कुछ लोगों को सुरक्षित निकाला.

बहादुरी दिखाते हुए उसने घने धुंए से भरी जगह में प्रवेश किया और दो घंटे में 10 लोगों को सुरक्षित निकाला. हालांकि दमघोंटू धुएं के कारण वह बेहोश हो गया. फिलहाल उसका पास के सेवन हिल्स अस्पताल में इलाज चल रहा है. सिद्धू ने बताया कि लोगों को मदद की गुहार सुनकर वह खुद को रोक नहीं पाया. उसने बताया, 'मैं राहत अभियान में दमकल के कर्मियों के साथ शामिल हुआ. शुक्र है कि उन्होंने चौथी मंजिल तक जाने के लिए मुझे अपनी सीढ़ी का इस्तेमाल करने दिया. मैंने कुल्हाड़ी से इमारत का कांच तोड़ा और अंदर घुसा.'

सिद्धू ने कहा कि उसने मरीजों से खिड़की के किनारे आने को कहा और उन्हें एक-एक कर नीचे उतारा. उसने बताया, 'एक मरीज मेरे हाथ से फिसल गई थी, लेकिन खुशकिस्मती से वह बच गई.' केंद्रीय श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री संतोष गंगवार शहर के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती पीड़ितों से मंगलवार को मुलाकात करने के साथ ही सिद्धू से भी मिले और उसकी सेहत का जायजा लेकर उसकी जरूरतें पूछी. हाल ही में 12वीं कक्षा पास करने वाले सिद्धू ने कहा, 'उनसे तारीफ पाना अच्छा लगा.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi