S M L

70 सालों में मुसलमानों के जेहन में भरा गया जहर कम हुआ: नकवी

नकवी ने कहा कि मुस्लिम बालिकाओं के बीच में ही स्कूल छोड़ने की दर 74 प्रतिशत से घटकर अब 42 प्रतिशत रह गई है

Bhasha Updated On: Jun 17, 2018 04:55 PM IST

0
70 सालों में मुसलमानों के जेहन में भरा गया जहर कम हुआ: नकवी

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि पिछले 70 वर्ष से मुसलमानों के जेहन में जो जहर भरा गया है, वह काफी हद तक कम तो हुआ है लेकिन इसे पूरी तरह से खत्म करने के लिए बहुत कुछ करना होगा. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार बिना भेदभाव के, सम्मान के साथ अल्पसंख्यकों के सशक्तिकरण के लिये प्रतिबद्ध है.

नकवी ने कहा, 'मोदी सरकार का विकास का मसौदा, वोट का सौदा नहीं है. पिछले चार वर्षों के दौरान हमारी सरकार ने अल्पसंख्यकों के सशक्तिकरण के लिये प्रतिबद्ध पहल की है जिसका जमीन पर प्रभाव दिख रहा है.'

उन्होंने कहा कि बीजेपी साल 2019 के चुनाव में तीन तलाक के विषय पर अपने प्रयासों को जनता के सामने रखेगी.

उन्होंने कहा कि सशक्तिकरण की पहल के कारण ही मुस्लिम बालिकाओं के बीच में ही स्कूल छोड़ने की दर 74 प्रतिशत से घटकर अब 42 प्रतिशत रह गई है. इसका एक प्रमुख कारण यह है कि पौने तीन करोड़ बच्चों को नकद छात्रवृत्ति प्रदान की गई है. इसके कारण बिचौलियों की भूमिका खत्म हो गई है.

अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री ने कहा कि सरकार ने विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार का मौका मुहैया कराने का काम किया है . इसका गरीबों और कमजोर वर्ग के लोगों को काफी लाभ हुआ है जिसमें काफी संख्या में अल्पसंख्यक समुदाय के लोग शामिल हैं.

मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री से लेकर सरकार के सभी मंत्रियों द्वारा लगातार सम्पर्क और संवाद के माध्यम से समाज के सभी वर्ग के लोगों में विकास और विश्वास का माहौल पैदा करने की कोशिश की जा रही है.

उन्होंने कहा कि पिछले 70 सालों से मुसलमानों के जेहन में जो जहर भरा गया है, वह काफी हद तक खत्म हुआ लेकिन अभी भी इस संदर्भ में बहुत कुछ करना होगा और मोदी सरकार बिना भेदभाव के सम्मान के साथ अल्पसंख्यकों के सशक्तिकरण के लिए प्रतिबद्ध है.

अल्पसंख्यक मंत्रालय के कार्यों का जिक्र करते हुए नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के माध्यम से देश के पिछड़े और अल्पसंख्यकों की अच्छी खासी आबादी वाले क्षेत्रों में शिक्षा, स्वास्थ्य, जलापूर्ति, कौशल विकास के लिये आधारभूत ढांचे के विकास का कार्य युद्ध स्तर पर जारी है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के तहत नवोदय और केंद्रीय विद्यालय की तर्ज पर स्कूलों की स्थापना का मार्ग प्रशस्त हुआ है. इस योजना के तहत अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्रों में भवनों और सामुदायिक केंद्रों का निर्माण किया गया. इसके साथ ही समाज में सद्भाव और समरसता को बढ़ावा देने के लिये ‘सद्भाव मंडप’ की भी स्थापना की जा रही है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi