S M L

45 मिनट में फटे थे 26000 बम, एंटी एयरक्राफ्ट और टैंक भेदी बमों में हुआ ब्लास्ट

शनिवार शाम 6.25 बजे विस्फोट शुरू हुए, जो लगभग 45 मिनट तक चलते रहे

Updated On: Mar 27, 2017 10:41 AM IST

FP Staff

0
45 मिनट में फटे थे 26000 बम, एंटी एयरक्राफ्ट और टैंक भेदी बमों में हुआ ब्लास्ट

मध्यप्रदेश में जबलपुर के खमरिया क्षेत्र में स्थित आयुध निर्माण कारखाने (ऑर्डनेंस फैक्ट्री) में शनिवार को लगी आग में 26 हजार बम फटे थे. शुरुआती जांच में यह खुलासा हुआ है. हालांकि, फैक्ट्री प्रबंधन ने दावा किया है कि आग की वजह से नष्ट होने वाले सभी बम रिजेक्टेड थे.

ऑर्डनेंस फैक्ट्री में शनिवार देर शाम सिलसिलेवार विस्फोट वर्षों से जमा गोला-बारूद में हुए थे और इन विस्फोटों से एक इमारत को नुकसान हुआ है. यह खुलासा वरिष्ठ महाप्रबंधक ए.के. अग्रवाल ने किया. अग्रवाल ने घटना स्थल का मुआयना किया और उसके बाद संवाददाताओं से कहा, "शनिवार शाम 6.25 बजे विस्फोट शुरू हुए, जो लगभग 45 मिनट तक चलते रहे. ये विस्फोट मैगजीन इमारत संख्या 845 में हुए. इसी इमारत में विस्फोटक व गोला-बारूद का भंडारण किया जाता है."

बताया जा रहा है कि धमाकों की शुरुआत रिजेक्टेड आरसीएल बमों से हुई थी. ये बम दुश्मन के टैंकों को पलभर में ही ध्वस्त करने में सक्षम होते हैं. कुछ ही देर में पास में रखी बम की अन्य खेप भी धमाकों से फैली आग की चपेट में आ गए.

इसके बाद टैंक भेदी बम, 125 एमएम बमों, एंटी एयरक्राफ्ट बमों (पांच हजार) की खेप में भी धमाके शुरू हो गए. बताया जा रहा है कि 26 हजार बमों में हुए धमाके में सबसे ज्यादा 20 हजार आरसीएल बम थे.

गौरतलब है कि शनिवार देर शाम एफ-तीन खंड की एक इमारत में एक के बाद एक विस्फोट हुए और आग लग गई. इन विस्फोटों की आवाज कई किलोमीटर दूर तक सुनी गई और आग की लपटें भी कई किलोमीटर दूर से देखी गईं, जिससे हर तरफ दहशत फैल गई. विस्फोटों के चलते कई इमारतों को नुकसान पहुंचा, लेकिन किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है.

विस्फोट कैसे हुए, इसका अभी तक पता नहीं चल पाया है. ऑर्डिनेंस फैक्ट्री के अधिकारियों के मुताबिक, ये विस्फोट उस हिस्से में हुए, जहां फिलिंग का काम होता है. जबलपुर का ऑर्डिनेंस फैक्ट्री एशिया का एक प्रमुख आयुध निर्माण कारखाना है. यहां सेना के लिए बम बनाए जाते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi