S M L

छत्तीसगढ़ कांग्रेस अध्यक्ष को 'माओवादी' ने दी जान से मारने की धमकी

बघेल ने बताया कि कथित नक्सली ने चुनाव पर असर डालने की बात भी कही. मंगलवार शाम आए इस कॉल की शिकायत मौखिक तौर पर भूपेश बघेल ने दुर्ग एसपी से तत्काल की

Updated On: Jul 19, 2018 10:15 AM IST

FP Staff

0
छत्तीसगढ़ कांग्रेस अध्यक्ष को 'माओवादी' ने दी जान से मारने की धमकी

छत्तीसगढ़ कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल को एक अज्ञात शख्स ने जान से मारने की धमकी दी. अज्ञात व्यक्ति ने खुद भूपेश को फोन कॉल पर धमकी दी. प्रेस में इस बात की जानकारी खुद बघेल ने दी.

बघेल के मुताबिक, पिछली शाम एक अज्ञात नंबर से मुझे फोन आया. फोन करने वाले शख्स ने अपना नाम गणपति बताया. उसने यह भी बताया कि वह सीपीआई (एमएल) का महासचिव है. उसने कहा, पिछले समय हम बीजेपी का साथ दे रहे थे. इस समय हम आपका साथ देना चाहते हैं. 37 सीट हमारे प्रभाव में है.

बघेल ने मीडियाकर्मियों को बताया कि कथित नक्सली ने चुनाव पर असर डालने की बात भी कही. मंगलवार शाम आए इस कॉल की शिकायत मौखिक तौर पर भूपेश बघेल ने दुर्ग एसपी से तत्काल की.

पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल ने जानकारी देते हुए बताया की मंगलवार शाम करीब 7 बजे एक अनजान नंबर से कॉल आया. कॉल करने वाला शख्स चुनाव से संबंधित बातें करने लगा. शख्स ने खुद को नक्सली कमांडर भी बताया. कई बार ऐसे शरारती तत्वों का फोन कॉल आ जाता है. लेकिन जब शख्स ने खुद को नक्सलियों का महासचिव बताया तब मैंने रात को ही मामले की मौखिक शिकायत दुर्ग एसपी को की. अब लिखित शिकायत की जाएगी.

बघेल ने आगे कहा, मैंने उससे पूछा कि कैसे भरोसा करूं कि तुम सीपीईआई (एमएल) के महासचिव हो. उसने जवाब दिया, गणपति के नाम से कोई और फोन कर ही नहीं सकता, नहीं तो उसका मुंडी नहीं रहता. उसने मुझे एक हफ्ते के अंदर मिलने को कहा. मैंने आनाकानी करते हुए फोन काट दिया. मैंने उसी रात एसपी को मौखिक तौर पर शिकायत कर दी.

भूपेश बघेल ने कहा कि पुलिस जांच के बाद ही पूरे मामला साफ हो पाएगा. किसी की शरारती तत्व का काम है या असल में किसी नक्सली कमांडर ने फोन किया था, ये पुलिस जांच के बाद ही पता चल पाएगा. भूपेश ने कहा कि दुर्ग एसपी ने एसआईटी से मामले की जांच की बात कही है.

पीसीसी अध्यक्ष ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार शुरू से ही भेदभाव कर रही है. जो सांसद अपने निर्वाचन क्षेत्र से बाहर जाते नहीं, कभी बस्तर गए नहीं उन्हें जेड प्लस की सुरक्षा दे दी जाती है लेकिन जो हमारे विधायक बस्तर में रह रहे हैं उन्हें सुरक्षा के नाम पर कुछ नहीं मिला है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi