S M L

पद्मावत से भी ज्यादा विवादास्पद रही फिल्में, जिनसे अब कोई आहत नहीं होता

इस रिपोर्ट में हम आपको ऐसी ही कुछ और फिल्मों और डॉक्यूमेंट्री के बारे में बता रहे हैं, जिनका साथ भी विवादों से जुड़ा रहा

Updated On: Jan 23, 2018 09:04 AM IST

Nitesh Ojha

0
पद्मावत से भी ज्यादा विवादास्पद रही फिल्में, जिनसे अब कोई आहत नहीं होता

पद्मावत फिल्म पर विवाद इतना बढ़ गया है कि बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक इस फिल्म का नाम जान हैं. राज्य की सरकारों से लेकर देश के सुप्रीम कोर्ट तक यह मुद्दा चर्चा का विषय बन गया है. हालांकि ऐसा पहली बार नहीं हुआ जब कोई फिल्म विवादों के भंवर में फंसी हो. इस रिपोर्ट में हम आपको ऐसी ही कुछ और फिल्मों के बारे में बता रहे हैं जिनका साथ भी विवादों से जुड़ा रहा.

ब्लैक फ्राइडे

Black_friday

'ब्लैक फ्राइडे' फिल्म साल 1993 के बम ब्लास्ट पर आधारित है. बनकर तैयार होने के बाद भी इसके रिलीज को दो साल का इंतजार करना पड़ा. क्योंकि बम ब्लास्ट का केस उस समय कोर्ट में चल रहा था, और ऐसा कहा गया कि फिल्म कोर्ट के फैसले पर प्रभाव डाल सकती है. फिल्म पाइरेट होकर डीवीडी में बिकने लगी. जिसके बाद इसके रिलीज की अनुमति मिली.

आंधी 

Aandhi

साल 1975 में आई फिल्म 'आंधी' पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के राजनीतिक जीवन पर आधारित थी. यही इसके बैन होने का कारण बन गया. इंदिरा गांधी जब सत्ता में थीं, तब उन्होंने फिल्म पर बैन लगा दिया. लेकिन बीजेपी के सत्ता में आने पर फिल्म से प्रतिबंध हटा लिया गया. फिल्म में हीरोइन के कुछ सिगरेट पीने के सीन थे जो हटा दिए गए थे. इसके साथ ही कहानी से तात्कालिक रिफरेंस हटा लिए गए.

बैंडिट क्वीन 

Bandit_Queen

चंबल की डकैत फूलन देवी के जीवन पर बनी शेखर कपूर की फिल्म 'बैंडिट क्वीन' भी विवादों में रही है. फिल्म में अभीनेत्री सीमा विश्वास पर फिल्माए गए बलात्कार के दृश्य, और फिल्म में उपयोग की गई गालियां फिल्म के विवाद का कारण बनीं. लंबे समय तक खुद फूलन देवी को ये फिल्म देखने नहीं दी गई थी. बाद में कोर्ट के चलते फिल्म भारत में कुछ एक्स्ट्रा कट्स के साथ रिलीज हुई.

किस्सा कुर्सी का 

Kissa_Kursi_Ka_film

इमरजेंसी के समय पर व्यंग करती फिल्म 'किस्सा कुर्सी का' संजय गांधी और इंदिरा गांधी की स्थिति पर आधारित थी. बता दें कि इस फिल्म को बैन कर दिया गया था और फिल्म के सारे प्रिंट जब्त कर लिए गए थे.

वॉटर 

water

दीपा मेहता की फिल्म 'वॉटर' में आश्रमों में कष्ट झेल रही विधवाओं की कहानी बताई गई है. जिस पर शिवसेना और काशी संस्कृति रक्षण संघर्ष समिति ने भारतीय संस्कृति को बदनाम करने का आरोप लगाया. फिल्म से जुड़ा विवाद इतना बढ़ गया कि फिल्म की शूटिंग वाराणसी की जगह श्रीलंका में करनी पड़ी.

पीके 

PK

'पीके' फिल्म से जुड़े विवाद से शायद ही कोई अनछुआ रहा होगा. धार्मिक अंधविश्वास पर चोट करती इस फिल्म को कई धार्मिक संगठनों के विरोध का शिकार बनना पड़ा. बावजूद कड़े विरोध के फिल्म ने काफी तारीफें बटोरी और और अपने समय पर सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म भी बनी.

माय नेम इज खान 

My_Name_Is_Khan

शाहरुख खान की इस फिल्म पर शिवसेना ने कड़ा विरोध जताया था. दरअसल शाहरुख की आईपीएल में पाकिस्तानी खिलाड़ियों को खिलाने की इच्छा के चलते शिवसेना ने उनकी इस फिल्म पर हमला किया. शाहरुख खान के घर की दीवारों पर पाकिस्तान का टिकट भी चिपका दिया था.

फना 

Fanaa

आमिर खान ने फिल्म के रिलीज के दौरान नर्मदा पर बांध की ऊंचाई बढ़ाए जाने के खिलाफ चंद बातें बोल दी थीं. इसके बाद गुजरात की बीजेपी सरकार ने न सिर्फ फिल्म पर प्रतिबंध लगाया. बल्कि आमिर खान के द्वारा विज्ञापन किए जाने वाले उत्पादों पर भी रोक लगा दी.

परजानिया 

Parzania

फिल्म की सारी कहानी 2002 के गुजरात दंगों के आस-पास घूमती है. इस फिल्म की कहानी दंगों पर आधारित होने के कारण गुजरात में इस पर बैन लगा दिया गया. हालांकि कुछ एनजीओ के प्रयास से फिल्म गुजरात के कुछ इलाकों में दिखाई गई थी. इस फिल्म में उठाया गया मुद्दा इतना संवेदनशील था कि यह फिल्म अभी तक विवादित बनी हुई है.

कामासूत्र : ए टेल ऑफ लव 

Kama_Sutra_A_Tale_of_Love

हालांकि कामासूत्र की रचना भारत में ही हुई थी लेकिन जब इसे फिल्म के रूप में पर्दे पर लाया गया तो यह विवादों में घिर गई. फिल्म में दिखाए गए दृश्यों की कटाई-छंटाई के बावजूद भी फिल्म से विवादों का नाता नहीं टूटा. विवाद इतना बढ़ गया था कि फिल्म की अभिनेत्री हिंदुस्तान वापस आने में भी डर महसूस कर रही थी.

रंग दे बसंती 

RDB

फ्लाइंग कॉफिन के नाम से बदनाम हो रहे मिग विमानों का शिकार हो रहे जवानों पर आधारित राकेश ओम प्रकाश मेहरा की फिल्म. यह फिल्म विवादों में तब आ गई जब एयरफोर्स को इसके कुछ हिस्सों पर आपत्ति हुई थी. इसके बाद मेनका गांधी ने फिल्म में घोड़े के उपयोग पर एतराज जताया. हालांकि वह दृश्य फिल्म से हटा लिया गया और एयरफोर्स के बारे में फिल्म के आखिर में डिस्क्लेमर दिया गया. फिल्म सुपरहिट साबित हुई.

एक छोटी सी लव स्टोरी 

Ek_Chotisi_Love_Story_film

मनीषा कोइराला अभिनीत यह फिल्म विवादों में तब आ गई जब खुद मनीषा ने फिल्म के दृश्यों के खिलाफ कोर्ट में केस दर्ज करा दिया. उनका कहना था कि फिल्म में कुछ आपत्तिजनक दृश्य हैं. जो उनकी बॉडी डबल से करवाए गए हैं. जिसके बाद उन्होंने फिल्म पर स्टे लगाने की मांग की.

फायर 

Fire_poster

साल 1996 में आई इस फिल्म के जरिए शायद पहली बार किसी बॉलीवुड फिल्म में समलैंगिकता दिखाई गई थी. समलैंगिकता जैसे संवेदनशील मुद्दे पर फिल्म बनाने के कारण शिवसेना ने इसका जमकर विरोध किया. इस विरोध से अंदाजा लगाया जा सकता है कि उस समय तक भारतीय दर्शक समलैंगिकता जैसे मुद्दे पर फिल्म देखने लायक नहीं हुए थे.

बॉलीवुड की फिल्मों के साथ-साथ भारत में कई डॉक्यूमेंट्री फिल्में भी विवाद में रही हैं. इनमें से कुछ आप नीचे देख सकते हैं.

इंडियाज डॉटर 

india daughter

दिल्ली में वसंत विहार सामूहिक बलात्कार कांड पर बनी बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री फिल्म विवादों में इस कदर फंस गई कि भारत में उसे प्रतिबंधित कर दिया गया. निर्भया गैंगरेप पर बनी डॉक्यूमेंट्री भारत में ही नहीं प्रदर्शित की जा सकी.

राम के नाम 

ram k naam

भारत के मशहूर डॉक्यूमेंट्री निर्देशक आनंद पटवर्धन द्वारा बनाई गई डॉक्यूमेंट्री फिल्म बाबरी विध्वंस पर आधारित है. जिसमें कई हिंदू संगठनों द्वारा विध्वंस की साजिश दिखाई गई है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई अवार्ड जीतने वाली फिल्म को भारत में ही प्रदर्शित होने में दो दशक लग गए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi