S M L

देश की सुरक्षा में 3000 से ज्यादा महिलाओं का हाथ

शॉर्ट सर्विस कमीशन स्कीम में किया गया है संशोधन

Updated On: Mar 28, 2017 11:05 PM IST

Bhasha

0
देश की सुरक्षा में 3000 से ज्यादा महिलाओं का हाथ

रक्षा राज्य मंत्री डॉ सुभाष भामरे ने मंगलवार को राज्यसभा को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में  जानकारी दी कि 1 जनवरी 2017 को सेना में 1528 महिलाएं,16 मार्च 2017 को नौसेना में 469 महिलाएं और 1 मार्च 2017 के अनुसार वायु सेना में 1581 महिलाएं कार्यरत हैं.

इनमें हॉस्पिटलस और डेटंल हॉस्पिटलस को शामिल नहीं किया गया है.

कितनी महिलाओं को नौसेना और वायु सेना में भर्ती किया गया?

उन्होंने बताया कि मार्च 2017 तक सेना में 35 महिला अधिकारियों को भर्ती किया गया जबकि नौसेना और वायु सेना में 14 महिलाओं को भर्ती किया गया.

डॉ सुभाष भामरे ने बताया कि साल 2011 में सरकार ने तीनों सेनाओं की मेन ब्रांच में, मतलब जज एड्वोकेट जनरल, और सेना की सैन्य शिक्षा कोर और नौसेना और वायु सेना में उनकी समकक्ष शाखाओं में, नौसेना में नौसैन्य कंस्ट्रक्टर और वायु सेना की लेखा शाखा में पुरूष एसएससीओ के साथ स्थायी कमीशन देने के लिए महिला शॉर्ट सर्विस कमीशन अधिकारियों पर विचार करने की मंजूरी दे दी है.

इस साल महिला शॉर्ट सर्विस कमीशन अधिकारियों को किन योजनाओं में शामिल किया जाएगा?

उन्होंने बताया कि मार्च 2016 में महिला शॉर्ट सर्विस कमीशन अधिकारियों को समुद्री टोह शाखा में पायलट के रूप में और नौसैन्य आयुध निरीक्षणालय कैडर में शामिल किए जाने के लिए मंजूरी दी गई है. साल 2017 के बीच में इन्हें शामिल किए जाने की योजना है.

शॉर्ट सर्विस कमीशन स्कीम में किया गया संशोधन

भामरे ने बताया कि भारतीय वायु सेना ने महिलाओं को लड़ाकू शाखा में पांच साल की अवधि के लिए प्रयोग के आधार पर शामिल करने के लिए शॉर्ट सर्विस कमीशन स्कीम में संशोधन किया है. पहले बैच की तीन महिला अधिकारियों को लड़ाकू शाखा में 18 जून 2016 को कमीशन दिया गया था.

शॉर्ट सर्विस कमीशन के तहत कोई भी कमीशन ऑफिसर के तौर पर इंडियन आर्मी में पांच साल की अवधि के लिए प्रयोग के आधार पर आ सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi